अब जंगली जानवरों से होगी किसानों की फसल सुरक्षित, खेतों में सोलर फेसिंग के लिए सरकार दे रही 60 से 80 फीसदी छूट

0
mukhymantri fasal surksha yojana uttar pradesh
खेतों में सोलर फेसिंग के लिए 60 से 80 फीसदी छूट

खेतों में सोलर फेसिंग के लिए 60 से 80 फीसदी छूट

देश के किसानों की फसलें अच्छी हो, वे उनसे अच्छा उत्पादन ले सके. जिससे उनकी आय बढ़ सके. इसके लिए देश की सरकारों द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है. जिसके लिए वे समय-समय पर किसानों के लिए विभिन्न अनुदान योजना भी लेकर आती रहती है.

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश राज्य की योगी सरकार द्वारा मुख्यमंत्री फसल सुरक्षा  योजना के तहत खेतों के चारों ओर सोलर फेसिंग कराने के लिए किसानो को अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा. जिससे वह जंगली जानवरों से अपनी फसलों की सुरक्षा कर सके.

यह भी पढ़े : टमाटर की इन उन्नत किस्मों की बुवाई कर किसान बनेगें मालमाल, उत्पादन होगा अधिक

योजना के अंतर्गत 60 से 80 फीसदी तक मिलेगी छूट

राज्य के किसानों को मुख्यामानरी फसल सुरक्षा योजना के अंतर्गत खेतों के चारो तरफ सोलर फेसिंग कराने पर किसानों को 60 से 80 प्रतिशत तक छोट प्रदान की जाएगी. सूत्रों के मुताबिक दो हेक्टेयर तक के किसानों को फेसिंग कराने के लिए 60 प्रतिशत, वही छोटे-छोटे कई किसानों को मिलाकर लगभग 10 हेक्टेयर का क्लस्टर बनाने पर इस योजना के अंतर्गत 80 प्रतिशत तक के अनुदान का प्राविधान है.

इसमें खेत के चरों तरफ फेसिंग लगाकर उसमें 12 बोल्ट का करंट प्रवाहित होगा. इसके करीब जो भी जंगली जानवर जाएगा, उसे हल्का झटका लगेगा. जिससे वह दूर भाग जायेगा. लेकिन अभी अधिकारीयों द्वारा टार, पोल, सोलर पैनल आदि के मूल्य का आंकलन किया जा रहा है.

यह भी पढ़े : फरवरी माह में पशुओं के चारा फसलों में किसान करे यह कृषि कार्य, उत्पादन मिलेगा अधिक

पहले चरण में 34 जिलों को योजना का लाभ

योजना के लिए बजट में 50 करोड़ रूपये का प्राविधान किया गया है. जिसके लिए टेंडर प्रक्रिया अपनाते हुए खेत की लम्बाई-चौड़ाई के हिसाब से ही खर्च किया जाएगा. वही कृषि निदेशक के अनुसार जानकारी दी गयी है कि पहले चरण में 34 जिलों को शामिल किया गया है. जिनमें बुंदेलखंड के जिलों के साथ वन क्षेत्र से सटे जिले भी शमिल है. उसके उपरांत अन्य जिलों में भी इस योजना को शुरू किया जाएगा. वही सरकार को यह उम्मीद है फेसिंग लगने के बाद राज्य में तिलहन और दलहन की फसलों की उपज में बढ़ोत्तरी होगी. क्योकि जंगली जानवरों की वजह से इन फसलों का उत्पादन कम हो रहा था.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here