कृषि वैज्ञनिकों ने खोजी उन्नत तकनीक, केले के पौधे में आयेगें भरपूर फल, किसान होंगे मालामाल

0
8946
Banana Farming
खोजी गई केले में ज्यादा फल देने वाली नई उन्नत तकनीक

Banana Farming | खोजी गई केले में ज्यादा फल देने वाली नई उन्नत तकनीक

देश सभी राज्यों में पूरे साल केले की मांग बनी रहती है. इसलिए बाजार में इसकी कीमत भी अच्छी रहती है. इसी कारण देश में केले की खेती बहुत बड़े पैमाने पर की जाती है.

भारत में केले की लगभग 500 प्रजातियों से ज्यादा की खेती की जाती है. लेकिन अच्छी पैदावार के लिए टिशू कल्चर तकनीक से तैयार किये गए पौधों को लगाने की सलाह दी जाती है. कृषि विशेषज्ञों का भी कहना है टिशू कल्चर तकनीक से केले की खेती में किसान भाई अधिक मुनाफा कमा सकते है.लेकिन इस तकनीक से पौधे तैयार करते समय किसान भाइयों काफी ध्यान व सावधानी रखने की जरुरत होती है. नही तो फायदे के स्थान पर नुकसान भी हो सकता है.

यह भी पढ़े : पशुपालक किसानों के लिए बड़ी खबर, डेयरी फार्मिंग करने के लिए 33 प्रतिशत तक का अनुदान

टिशू कल्चर तकनीक क्या है ?

किसान भाइयों टिशू कल्चर तकनीक केले का पौधा तैयार करने की एक पूरी प्रक्रिया है. जिसमें ऊतक संवर्धन पर काम किया जाता है.

  • इस तकनीक में बढ़ाते हुए पौधे के उपरी हिस्से से ऊतक यानी टिशू का छोटा सा हिसा ले लिया जाता है.
  • इन ऊतकों को पोषक तत्व और प्लांट हार्मोन से बनी जैली में रखा जाता है.
  • इन्हीं प्लांट हार्मोन्स और पोषक तत्वों से पौधों की जड़ों का विकास होता है और पत्ते बनने लगते हैं.
  • पूरी वैज्ञानिक प्रक्रिया के बाद इन पौधों की रोपाई ठीक प्रकार से मिट्टी या बाग में कर देते हैं.
  • इसके पूरी तरह से विकसित पेड़ के तने की मोटाई 5-6 सेमी तक हो जाती है.
  • टिशू कल्चर से पौधे तैयार करते समय केले के पेड़ से 5 – 6 सेहतमंद पत्ते लिये जाते है और इनके बीच 5 सेमी की दूरी भी रखी जाती है.
  • पौधे लगाने के बाद सख्त होने लगें तो पत्तों की 25-30 जड़ें बनना अनिवार्य है.

यह भी पढ़े : अब देश के किसान कहीं भी उगा सकेगें केसर, इस तकनीकी का करे इस्तेमाल, हो जायेगे मालामाल

टिशू कल्चर तकनीक से होने वाले लाभ

टिशू कल्चर तकनीक से तैयार किये गए पौधो का विकास अच्छी प्रकार होता है. जबकि साधारण तकनीक से बनाये पौधों के खराब होने की संभावना ज्यादा होती है. टिशू कल्चर से तैयार पौधे जल्दी बढ़ाते है तथा अधिक फल भी देते है. इसके अलावा यह रोगमुक्त तथा फल भी बेहतर और अच्छे आते है. साथ ही इसकी फसल लगभग 10 महीने में तैयार हो जाते है. उसके बाद 8 से 10 महीने बाद दुबारा फसल भी आ जाती है. इस तकनीकी से दो साल में किसान भाई केले की फसल से अच्छा मुनाफा कमा सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here