कौन सी गाय है सबसे अच्छी ? देशी गाय या जर्सी गाय, जानिए पूरी जानकारी | Difference Between Desi Cow and Jersey Cow

0
270
Jersey Cow
Difference Between Indigenous Cow and Jersey Cow

देशी नस्ल गाय और जर्सी नस्ल गाय में अंतर 

देश में पशुपालन की व्यवस्था वैदिक युग से रही है. पशुओं को पलने के पालने के बहुत सारे उद्देश्य है. जिसमें मुख्य रूप से पशुओं से दूध (Desi Cow and Jersey Cow) के विभिन्न उत्पाद प्राप्त करने के साथ-साथ खेत की जुताई, मांस, ऊन एवं खाद्य के लिए पालन किया जाता है.

लेकिन पशुपालन में गाय को भारत में माता के समकक्ष रखा गया है. क्योकि गाय का दूध सुपाच्य, पौष्टिक, औषधीय और विटामिन्स से भरपूर होता है. देश में कई नस्लों की गाय का पालन किया जाता है. जिसमें जिसमें कुछ देसी नस्ल (desi Cow) की गाय और कुछ जर्सी नस्ल (Jersey Cow) की गाय होती है. गाँव किसान के आज के लेख में देशी और जर्सी नस्ल की गाय में क्या अंतर होता है. इसकी पूरी जानकरी दी जाएगी.

देसी गाय (Desi Cow)

भारतीय गायों को देसी गाय के नाम से जाना जाता है. देसी गाय झेबू परिवार का प्राणी है. जिसके 21 लक्षण होते है. यह बॉस इंडिकस (Boss Idicus) शाखा की गाय है.

देसी गाय की पहचान (indigenous cow identification)

देसी गाय की पहचान कई तरीके की जा सकती है. इन गायों के सींग लम्बे और कूबड़ काफी बड़े होते है. इन गायों का विकास प्रकृति द्वारा जलवायु परिस्थितियों, चारे की उपलब्धता, काम करने के तरीके आदि के आधार पर होता है.

अगर उत्तर भारत की बात की जाय तो यहाँ देसी गाय की नस्लों में गिर, कंकरेज, थारपारकर गायों के शरीर में लंबे समय तक ढीले कोट के साथ लंबे डेलालैप और कान होते हैं. इन सब का कारण यहां की गर्म तापमान के कारण होता है.

यह भी पढ़े : Gir cow | गिर गाय की जानकारी | गिर गाय पालन कैसे करे ?

जर्सी गाय (Jersey Cow)

जर्सी गाय एक विदेशी प्रजाति की गाय है. यह बॉस टोरस (Boss Tauras) की शाखा में आती है. जर्सी गाय में देसी गाय के 21 में से एक भी लक्षण विद्यमान नही है.

जर्सी गाय की पहचान (Jersey Cow Identification)

जर्सी गाय के सींग और कूबड़ बड़े नही पाए जाते है. क्योकि यह एक विदेशी गाय है. इसे ठन्डे जलवायु की आवश्यकता होती है. क्योकि यह गर्म तापमान सहन नही कर पाती है. जिससे इनके दूध उत्पादन क्षमता पर प्रभाव पड़ता है.

जर्सी गायों ठन्डे देश की गाय है. जर्सी गाय का सर छोटा, पीठ और कन्धा एक लाइन में होता है. इसका शरीर अच्छा विकसित और चुस्त होता है. इनका रंग सफ़ेद जिस पर काले चित्ते होते है.

देसी गाय और जर्सी गाय में प्रमुख अंतर (Major Differences Between Desi Cow and Jersey Cow)

देसी गाय (DESI COW) जर्सी गाय (JERSEY COW)
यह एक भारतीय गाय है. यह ब्रिटेन के जर्सी द्वीप की गाय है.
देसी गाय बॉस इंडिकस श्रेणी की गाय है. जर्सी गाय बॉस टोरस श्रेणी की गाय है.
देसी गाय में गर्म जलवायु को सहने की क्षमता होती है. जर्सी गाय ठंडा जलवायु को पसंद करती है.
इसके सींग लम्बे और कूबड़ होता है. जबकि इसका पीठ और कंधा सपाट होता है.
देसी गाय की दूध देने की क्षमता कम होती है. जबकि जर्सी गाय अधिक दूध देती है.
देसी गाय को बच्चा पैदा करने में 30 से 36 महीना लगता है. जबकि जर्सी गायों को 18 से 24 महीना लगता है.
देसी गाय अपने जीवन काल में 10 से 12 बछड़ो को जन्म देती है. जबकि जर्सी कम ही बछड़ों को जन्म दे पाती है.

 

यह भी पढ़े : GOAT FARMING IN INDIA | बकरी पालन से हो सकती है मोटी कमाई, केंद्र सरकार भी कर रही है मदद

गोपशुओं की नस्लों का वर्गीकरण (Cattle Breeds Classification)

JERSEY COW

देसी गाय और जर्सी गाय के दूध में अंतर (Difference Between Desi Cow and Jersey Cow’s Milk)

देसी गाय का दूध (desi cow milk)

देसी गाय के दूध को अमृत के समान माना गया है. इसका घी और दूध कई बीमारियों में फायदेमंद होता है. राष्ट्रीय दुग्ध अनुसंधान संस्थान, करनाल ने भी इस संबंध में कुछ अध्ययन किए हैं, जिनसे पता चलता है कि जर्सी गाय की तुलना में देसी गाय का दूध, घी और गोमूत्र कहीं अधिक लाभकारी है।

जर्सी गाय का दूध (jersey cow’s milk)

पिछले कुछ वर्षों में देश-विदेश में जर्सी गाय पर कई अध्ययन हुए हैं। जिनसे पता चलता है कि गाय की दो विदेशी नस्लें हैं, जर्सी और होल्स्टीन। ये मात्रा में दूध भले ही ज्यादा देती हैं, पर वास्तव में इनके उत्पाद फायदे की बजाय नुकसानदेह ज्यादा हैं।

कई अध्ययन तो इन्हें गाय मानने तक को तैयार नहीं हैं। यह अपने मूल रूप में यूरोप का उरूस नामक जंगली जानवर था, जिसका कि यूरोपीय लोग शिकार किया करते थे। चूंकि जंगली जानवर होने के नाते शिकार करना मुश्किल होता था, इसलिए कई जानवरों के साथ इसका प्रजनन करवाया गया। अंत में देसी गाय के साथ प्रजनन के बाद जर्सी प्रजाति का विकास हुआ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here