Gir cow | गिर गाय की जानकारी | गिर गाय पालन कैसे करे ?

0
836
gir cow
gir cow images

Contents

Gir cow | गिर गाय पालन कैसे करे ?

देश मे हमेशा से गौ पालन किसानों की आमदनी का जरिया रहा है. खेती किसानी के साथ गायों को पालकर किसान भाई अपनी आमदनी को दो गुना कर सकते है. लेकिन गाय पालन में एक बात का विशेष ध्यान रखना होता है वह है गाय की सही नस्ल का चुनाव करना |

गिर गाय (Gir cow) की नस्ल एक उच्च दूध उत्पादन वाली नस्ल के रूप में प्रसिध्द है. इसके दूध को अमृत के सामान माना जाता है. क्योकि यह स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है. जिसकी कीमत काफी महंगी होती है. इसलिए गाँव किसान आज अपने इस लेख में गिर गाय पालन की पूरी जानकारी देगा.

गिर गाय के दूध के फायदे (Gir cow milk benefits)

दूध पीने के बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ मिलते है. इसे सम्पूर्ण आहार माना जाता है. क्योकि इसमें सभी पौषक तत्व पाए जाते है. जो शरीर में होने वाले अनेक रोगों से बचाता है.

गाय, भैस और बकरी के दूध में सबसे अच्छा दूध गाय का माना जाता है. क्योकि यह अधिक सुपाच्य होता है. साथ ही बौध्दिक और शारीरिक विकास के लिए सर्वोत्तम होता है.

गायों में भी गिर गाय का दूध अधिक अच्छा माना गया है. क्योकि इसमें 8 तरह के प्रोटीन, 6 प्रकार के विटामिन, 21 तरह के एमिनो एसिड, 11 तरह के चर्बीयुक्त एसिड, 25 तरह के खनिज तत्त्व, 16 तरह के नाइट्रोजन यौगिक, 4 तरह के फास्फोरस यौगिक, 2 प्रकार की शर्करा  आदि पोषक तत्व पाए जाते है.

इसके अलावा गिर गाय के दूध में खनिज सोना, ताँबा, लोहा, कैल्शियम, आयोडीन, फ्लोरिन, सिलिकॉन आदि तत्व भी पाए जाते हैं।

गिर गाय का दूध  मानसिक रोगों, बेहोशी, भ्रम, हृदयरोग, रक्तपित्त, कैंसर जैसे ख़तरनाक रोग से बचाता है.

यह भी पढ़े : Teosinto fodder crop | मकचरी चारा पशुओं के लिए है पौष्टिक | Makchari ki kheti

गिर गाय की विशेषताएं (Features of Gir Cow)

गिर गाय भारत की सबसे प्रसिध्द दूध देने वाली नस्ल के रूप में जानी जाती है. देश में यह गुजराज राज्य (gir cow gujarat) के वन क्षेत्र तथा राजस्थान के कुछ जिलों में पायी जाती है. विश्व इसके पालन के लिए विशेष रूप से ब्राजील मेक्सिको अमेरिका वैनेजुएला आदि अनेक देशों में अधिक संख्या में ले जाई गई है.

गिर गाय की शारीरिक बनावट (Gir cow body)

गिर गाय के शरीर का रंग सफेद, गहरे लाल या चॉकलेट भूरे रंग के धब्बे के साथ या कभी कभी चमकदार लाल रंग में भी पाया जाता है.

इसके कान काफी लम्बे तथा नीचे की ओर लटके हुए होते है.

इस गाय का शरीर मध्यम से लेकर बड़े आकार तक में पाया जाता है. मादा गिर गाय का औसत वजन 385 किलोग्राम तथा ऊंचाई 130 सेंटीमीटर होती है.

जबकि नर गिर का औसतन वजन 545 किलोग्राम तथा ऊंचाई 135 सेंटीमीटर होती है.इनके शरीर की त्वचा बहुत ही ढीली और लचीली होती है। सींग पीछे की ओर मुड़े रहते हैं.

गिर गाय की बछड़ा देने की उम्र (Gir cow calf age)

गिर गाय बहुत ही कम बीमार होती है. क्योकि यह अपनी अच्छी रोग प्रतिरोध क्षमता के लिए भी जानी जाती है. यह नियमित रूप से बछड़ा देते है. पहली बार यह 3 साल की उम्र में बछड़ा देती है.

यह भी पढ़े : ब्लू पैनिक घास – पशुओ के लिए एक पौष्टिक चारे की फसल

गिर गाय की दूध देने की क्षमता (Gir cow’s milking capacity)

गिर गाय की दूध (gir cow milk) देने की क्षमता अधिक होती है. क्योकि इन गायों के थन अच्छी तरह विकसित होते है.

गिर गाय एक दिन (gir cow milk per day) में लगभग 12 लीटर से अधिक दूश देने की क्षमता रखती है. जिसमें 4.5 प्रतिशत तक वसा पाया जाता है.

एक बियान में यह गाय औसतन लगभग 2110 किलोग्राम तक दूध का उत्पादन देती है.

गुजरात में गीर ने एक बयात में 8200 किलोग्राम दूध दिया है। गुजरात के एक फार्म हाउस में गीर गाय का एक दिन में 36 किलो दूध देने का रिकॉर्ड दर्ज है जबकि ब्राजील में गिर गाय से 50 किलो दूध एक दिन में लिया जा रहा है.

गिर गाय की जीवनकाल (Gir cow life)

गिर गाय का जीवनकाल लगभग 12 से 15 साल तक का होता है. यह अपने पूरे जीवनकाल में 6 से 12 बच्चे पैदा कर सकती है.

गिर गाय की देख रेख कैसे करे (How to take care of Gir Cow)

गिर गाय के लिए आवास प्रबन्धन (Housing Management for Gir Cow)

गाय अच्छी प्रकार दुग्ध प्रदर्शन कर सके. इसके लिए नुकूल पर्यावरणीय परिस्थितियों की जरुरत होती है. गाय का आवास शेड (gir cow farm) ऐसा हो जहाँ पर भारी बारिश, तेज धूप, बर्फबारी, ठंड और परजीवी से पशु आसानी से बच सके.

शैड में साफ हवा और पानी की सुविधा होनी चाहिए. पशुओं की संख्या के अनुसान भोजन के लिए जगह बड़ी और खुली होनी चाहिए, ताकि वे आसानी से भोजन खा सकें.

पशुओं के व्यर्थ पदार्थ की निकास पाइप 30-40 सैं.मी. चौड़ी और 5-7 सैं.मी. गहरी होनी चाहिए.

यह भी पढ़े : नंदी घास – पशुओं के लिए एक बहुवर्षी हरा चारा घास

गाभिन गाय की देखभाल (pregnant cow care)

गिर गाय के अच्छे प्रबंधन का परिणाम अच्छे बछड़े में होगा और दूध की मात्रा भी अधिक मिल सकेगी. गाभिन गिर गाय को 1 किलो से अधिक मात्रा में दाना देना चाहिए , क्योकि ये गाय शारीरिक रूप से भी बढ़ती है.

गिर गाय के लिए चारा प्रबंधन (Fodder Management for Gir Cow)

गिर गाय के लिए आवश्यक खुराकी तत्व जिनमे उर्जा, प्रोटीन, खनिज पदार्थ और विटामिन आदि प्रमुख रूप से हो, जरुर खिलाये.

गाय की खुराकी पदार्थ में मक्की, जौं, ज्वार, बाजरा, छोले, गेहूं, जई, चोकर, चावलों की पॉलिश, मक्की का छिलका, चूनी, बड़ेवें, बरीवर शुष्क दाने, मूंगफली, सरसों, बड़ेवें, तिल, अलसी, मक्की से तैयार खुराक, गुआरे का चूरा, तोरिये से तैयार खुराक, टैपिओका, टरीटीकेल आदि को शामिल करे.

हरे चारे के रूप में बरसीम की सूखी घास, लूसर्न की सूखी घास, जई की सूखी घास, पराली, मक्की के टिंडे, ज्वार और बाजरे की कड़बी, गन्ने की आग, दूर्वा की सूखी घास, मक्की का आचार, जई का आचार आदि को शामिल करे.

इन सबके अलावा रोजना खुराक में  मक्की/ गेहूं/ चावलों की कणी, चावलों की पॉलिश, छाणबुरा/ चोकर, सोयाबीन/ मूंगफली की खल, छिल्का रहित बड़ेवे की ख्ल/सरसों की खल, तेल रहित चावलों की पॉलिश, शीरा, धातुओं का मिश्रण, नमक, नाइसीन आदि को भी शामिल करे.

गाय का दूध निकलने का सही समय (Right time to milk cow)

गिर गाय का दूध निकालने का सही समय सुबह में 5 बजे से 7 बजे के बीच का सही रहता है. इस समय में गाय अच्छी मात्रा में दूध देती है. और शाम को 4 बजे से 6 बजे तक के समय में दूध निकलने से ज्यादा दूध की प्राप्ति होती है.

यह भी पढ़े : दूब घास चारा – पशुओं के लिए एक पौष्टिक चारा

गिर गाय का दूध कैसे निकाले (how to get milk from gir cow)

जब गिर गाय का दूध निकलना हो तो उसे शेड में ले आयें जहां उनके चारा खाने का इंतजाम किया गया हो.इस बात का ध्यान रखे जब गाय का दूध गाय निकल रहा हो तो उस समय किसी भी प्रकार की अनवांछित ध्वनि उन्हें सुनाई नही देनी चाहिए, क्योंकि इससे गाय डर जाती है और दूध रुक जाता है.

गिर गाय के दूध की कीमत (Gir cow milk price)

गिर गाय के दूध में औषधीय गुण होने के कारण यह बाजार में काफी मंहगा बिकता है. बाजार में इसकी कीमत 60 रूपये से लेकर 200 रूपए तक रहती है.

गिर गाय के घी की कीमत (Gir Cow Ghee Price)

गिर गाय के दूध से तैयार घी भी बाजार में काफी कीमत पर बिकता है. बाजार में इसकी कीमत लगभग 2000 रूपये प्रति किलोग्राम तक रहती है.

यह भी पढ़े : Pashu Kisan Credit Card Kya Hai | सरकार पशुपालन के लिए कर रही है मदद, जानिए इसके लिए ऋण कैसे पाए ?

गिर गाय की कीमत (Gir cow price)

एक बढ़िया नस्ल की गिर गाय 90 हजार से लेकर 3.50 लाख रुपये तक बाजार में मिलेगी. लेकिन इधर कोरोना महामारी में आर्थिक संकट के चलते इन गिर गायों को 45 से 60 हजार रुपये तक में बेचा जा रहा है.

गिर गाय कहाँ से ख़रीदे (where to buy gir cow)

गुजरात में पायी जाने के कारण गिर गाय की बढ़िया नस्लें गुजरात के सौराष्ट्र में ही मिलेगी. लेकिन आज देश के ज्यादतर राज्यों में यह स्थानीय स्तर पर भी उपलब्ध हो जाती है.

अन्य पूछे जाने वाले प्रश्न (Other FAQ)

प्रश्न : गिर गाय का दूध क्या भाव बिकता है?

उत्तर : बाजार में गिर गाय के दूध की कीमत 60 रूपये से लेकर 200 रूपए तक रहती है.

प्रश्न : गिर गाय को क्या खिलाना चाहिए?

उत्तर : गिर गाय के आहार में आवश्यक खुराकी तत्व जिनमे उर्जा, प्रोटीन, खनिज पदार्थ और विटमिन होना चाहिए.

प्रश्न : गिर गाय कितने दिन में बच्चा देती है?

उत्तर : गाय का गर्भाधान यदि सही हुआ है तो आप उसके ब्याने का सही समय निकाल सकते हैं क्योकि गाय का औसत गर्भकाल 280-290 दिन होता है.

प्रश्न : गिर गाय की बछड़ी कैसे तैयार करे ?

उत्तर : इसके लिए आमतौर पर निम्नलिखित व्यवस्था अपनाई जाती है:
  1. बछड़े को पूरी तरह दूध पर पालना
  2. मक्खन निकाला हुआ दूध देना
  3. दूध की बजाए अन्य द्रव पदार्थ जैसे ताजा छाछ, दही का मीठा पानी, दलिया इत्यादि देना
  4. दूध के विकल्प देना
  5. काफ स्टार्टर देना
  6. पोषक गाय का दूध पिलाना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here