अरंडी की खेती कर करके किसान भाई कम समय और लागत में मुनाफा ले कई गुना

0
37
Castor farming
अरंडी की खेती कम लागत में है अधिक मुनाफा

अरंडी की खेती कम लागत में है अधिक मुनाफा

देश के किसान सब अपनी खेती की फसलों में काफी बदलाव कर रहे हैं. क्योंकि उन्हें पारंपरिक फसलों में नुकसान उठाना पड़ रहा है. ऐसे में अब वे औषधीय पौधों की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं. औषधीय फसलों में लागत भी कम आती है, और लाभ अधिक मिलता है.

सरकार द्वारा भी विभिन्न मिशन कार्यक्रमों के द्वारा औषधीय फसलों के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. जिसमें से  एरोमा मिशन एक है. प्रोत्साहित कार्यक्रमों का परिणाम यह हुआ है, कि किसानों द्वारा औषधीय फसलों का रकबा भी बढ़ गया है. इन्हीं औषधि फसलों में से एक है अरंडी की खेती, जिसको किसानों द्वारा किया जा रहा है. इसकी खेती से किसान भाई अच्छा लाभ कमा रहे हैं. तो आइए जानते हैं अरंडी की खेती के बारे में कुछ जानकारियां–

यह भी पढ़े : Organic Farming : खेती की भूमि की उर्वरकता बढ़ाएगा संजीवक, आइये जाने इसकी बनाने की विधि और लाभ के विषय में

अरंडी की खेती किन जगहों पर करें

अरंडी की खेती की सबसे खास बात यह होती है. इसे ज्यादा संसाधनों की आवश्यकता नहीं होती है. यह पूरी तरह से व्यवसायिक फसल है. इसको हर प्रकार की मिट्टी व सभी प्रकार की जलवायु में आसानी से उगाया जा सकता है. इसकी खेती के लिए भूमि का पी०एच० मान 6 उपयुक्त माना जाता है. लेकिन किसान भाई इस बात का ध्यान रखें, जिस भी खेत में इसकी खेती करें. वहां पर भूमि से जल निकास की उचित व्यवस्था होनी चाहिए. आर्द्र और शुष्क तापमान का इसके पौधे पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है. इसीलिए इसकी खेती अन्य पारंपरिक फसलों की खेती के अपेक्षा सस्ती होती है. उसमें ज्यादा लागत नहीं लगती है. और यह कम समय में ही तैयार हो जाती है. अगर कृषि विशेषज्ञों की माने तो 25 से ₹30000 में आसानी से इसकी खेती सफलतापूर्वक की जा सकती है.

यह भी पढ़े : किसानों के लिए बड़ी राहत, फिर से बढ़ाई गई ई-केवाईसी की तारीख, जल्दी ही खाते में आएगी 12वीं किस्त

इसके तेल का उपयोग 

अरंडी से प्राप्त तेल काफी उपयोगी होता है. इसके तेल से कई प्रकार की चीजें बनाई जाती हैं. इससे कपड़े की डाई, साबुन, औषधि तेल और बच्चों को मालिश करने वाले तेलों के उत्पाद तैयार किए जाते हैं. इसके अलावा इसके तेल से कई आयुर्वेदिक दवाइयां भी बनाई जाती हैं. जिसके कारण बाजार में इसकी अधिक मांग रहती है. तथा किसानों को इसकी अच्छी कीमत मिल जाती है. सबसे खास बात यह है किसान भाई इसे आसानी से स्टोर करके रख सकते हैं. साथ ही इसका तेल ठंड के मौसम पर जमता भी नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here