Vegetables to grow september : सितम्बर के महीने किसान भाई अपने खेतों मे लगाए ये सब्जियां, बनेगें मालामाल

0
Vegetables to grow septembe
सितम्बर महीने मे बोई जाने वाली सब्जियां

Vegetables to grow september | सितम्बर महीने मे बोई जाने वाली सब्जियां

Vegetables to grow september : देश मे अगस्त का अपनी समाप्ति की ओर है। साथ ही सितम्बर महीने की शुरुवात होने वाली है। ऐसे मे किसान भाई के सामने सबसे बड़ी सोचने वाली यह बात होती है कि वह अपने खाली पड़े (खरीफ फसलों) के बाद खेतों कौन सी फसलों की बुवाई करे। जिससे उन्हे ज्यादा मुनाफा हो। तो इसी कड़ी मे हम कुछ सब्जी फसलों की चर्चा आज के इस लेख मे करेगें, जिनकी सितम्बर महीने मे बुवाई कर किसान भाई अच्छा मुनाफा कमा सकेगे।

वैसे देखा जाए तो किसान भाई सब्जी की फसलों की खेती करना काफी पसंद करते है। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि यह नगदी फसलें होती है। इनको बाजार मे बेचकर किसान भाई अच्छा मुनाफा कमा सकता है। साथ ही किसान भाई इन फसलों की उपज सीधे उपभोक्ताओं को बेचकर और अच्छा लाभ कमा सकते है। लेकिन अगर किसान भाई सही और अच्छे रेट में बिकने वाले सब्जियों की खेती के लिए चुनाव करें तो और भी ज्यादा अच्छा मुनाफा बनाया जा सकता है। सितंबर के महीने में कई ऐसी सब्जियों की खेती (cultivation of vegetables) की जा सकती है, जिनको बेचकर किसान भाई काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते है। तो आइए जाने इसके बारे मे विस्तार से-

सितम्बर महीने मे बोई जाने वाली प्रमुख सब्जी फसलें (Vegetables to grow september)

ब्रोकली की खेती करे सितम्बर माह मे

ब्रोकली की बुवाई शुरुवात किसान भाई सितम्बर माह मे कर सकते है। हरे रंग की गोभी की तरह दिखने वाली यह सब्जी फसल भारतीय बाजार मे खूब बिकती है। इसलिए लिए इसकी बाजार कीमत भी अच्छी रहती है। बाजार की इसकी मांग इसकी खूबियों के कारण रहती है। क्योंकि इसमें भरपूर पोषक तत्व जिसमें कैल्शियम, आयरन आदि पाए जाते है।

60 से 90 दिनों मे तैयार होने वाली फसल का बाजार भाव काफी अच्छा रहता है. सेहत के लिए काफी अच्छी होने की वजह से यह सब्जी मार्केट में 50 से 100 रुपए प्रति किलो तक बिका जाती है। ऐसे मे किसान भाई ब्रोकली की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

यह भी पढे : Kisan Rakhi : किसानों के लिए इस बार राखी का त्यौहार होगा खास, भाइयों के कलाई पर बधेंगी धान से बनी राखी

बैगन की बुवाई करे सितम्बर मे 

बैगन की खेती लगभग हर प्रकार की मिट्टी की जा सकती है। लेकिन रेतीली दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। जलभराव बैंगन की खेती के लिए काफी नुकसानदायक होता है।  इसलिए खेत तैयारी के समय खेत से जल निकासी की व्यवस्था जरूर बनाए।

बैगन की अच्छी पैदावार के लिए समय से खाद एवं उर्वरकों के साथ-साथ रोग एवं कीटों का ध्यान रखना सबसे जरूरी होता है। इससे इसकी अच्छी पैदावार मिल सकेगी। बैगन की फसल से उपज लगभग 60 से 100 दिनों के मध्य प्राप्त हो जाती है। इस लिए किसान भाई सितम्बर के शुरुवाती सप्ताह मे बैगन को लगाकर अच्छी उपज के साथ अच्छा मुनाफा भी कमा सकते है।

हरी मिर्च लगए इस सितम्बर महीने मे 

बैगन की तरह मिर्च की खेती भी लगभग सभी प्रकार की मिट्टियों मे की जा सकती है। लेकिन दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे उपयुक्त होती है। हरी मिर्च की खेती के लिए 15 से 35 डिग्री तक तापमान उचित माना गया है।

रबी के सीजन मे हरी मिर्च की खेती की बुआई के लिए 1 सितंबर से 30 नवंबर के बीच सबसे उत्तम माना गया है। इसकी फसल की उपज 60 से 70 दिन मे पक कर तैयार हो जाती है। वही इसकी फसल की तुड़ाई 60 से 65 दिनों बाद शुरू की जा सकती है।हरी मिर्च मार्केट में काफी अच्छी कीमत में बिकती है। हरी मिर्च की खेती कर किसान अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

सितम्बर मे लगाए शिमला मिर्च 

शिमला मिर्च की बाजार मे अत्यधिक मांग होने के कारण इसकी कीमत भी अच्छी मिलती है। आपको बताते चले शिमला मिर्च का उपयोग बहुत सारे व्यंजनों को स्वादिष्ट बनाने मे किया जाता है। इसलिए किसान भी शिमला मिर्च की खेती से अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

शिमला मिर्च एक समशीतोष्ण जलवायु की फसल है। हमारे देश में सर्दियों में तापमान अक्सर 10 डिग्री सेल्सियस से नीचे हो जाता है, शिमला मिर्च पर ठंड का असर कम से कम होता है। यही वजह है कि इसकी फसल सालभर ली जा सकती है। गर्मी में इस फसल का विकास तेज हो जाता है। रेतीली दोमट मिट्टी इस फसल के लिए उपयुक्त है। सितंबर में शिमला मिर्च की खेतीकर किसान काफी अच्छा मुनाफा कमा पाएंगे।

यह भी पढे : Solar pump subsidy in india : अधिकारियों ने किसानों किया सतर्क, बताया सोलर पम्प अनुदान पाने लिए कहाँ रुपये जमा करे

अधिक लाभ के लिए सितम्बर मे करे गाजर की खेती

गाजर की खेती किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। क्योंकि सर्दियों का मौसम शुरू होते ही गाजरों की मांग बाजार मे बढ़ जाती है। जिससे बाजार मे इसकी कीमत भी अच्छी रहती है।

सितंबर माह में गाजर की बुवाई की जाती है। सितंबर में बुवाई के साथ दिसंबर के अंतिम सप्ताह तक गाजर की फसल का उत्पादन ले सकते हैं। तीन से चार महीनों में इन फसलों का उत्पादन ले सकते हैं। इस खेती से काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here