Kaamadhenu pashu beema yojana : पशुपालकों के लिए शुरू हुई कामधेनु पशु बीमा योजना, 2 गाय-भैंस का बीमा होगा मुफ्त में

0
Kaamadhenu pashu beema yojana
कामधेनु पशु बीमा योजना

Kaamadhenu pashu beema yojana | पशुपालकों के लिए शुरू हुई कामधेनु पशु बीमा योजना

Kaamadhenu pashu beema yojana : देश के ज्यादातर किसानों की आमदनी खेती के साथ-साथ पशुपालन से भी होती है लेकिन कभी-कभी पशुओं की असामयिक मौत से पशुपालकों को नुकसान भी उठाना पड़ता है। इसलिए पशुपालन क्षेत्र में जोखिम को कम करने के लिए पशुओं का बीमा होना आवश्यक है ताकि पशु हानि होने पर पशुपालकों को आर्थिक नुकसान से बचाया जा सके। खासकर वह पशुपालक जो मुख्य रूप से पशुपालन के कार्य से ही अपनी आजीविका का निर्वाहन करते है। इसी के महत्व को देखते हुए राजस्थान सरकार ने राज्य में निःशुल्क पशुधन बीमा योजना शुरू की है। जिसके तहत पशुओं का मुफ्त में 40 हजार रुपए का बीमा किया जाएगा।

राजस्थान राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा सितंबर के दिन गुलाबपुराभीलवाड़ा से मुख्यमंत्री कामधेनु बीमा योजना की शुरूआत की गई है। इसके अलावा इस मौके पर उनके द्वारा पशुधन सहायक का पदनाम पशुधन निरीक्षक करनेप्रथम श्रेणी के पशु चिकित्सा अधिकारियों को 5 हजार रुपए प्रति माह विशेष परियोजना भत्ता तथा पशुधन सहायकपशुधन प्रसार अधिकारी का विशेष हार्ड ड्यूटी भत्ता 500 रुपए किए जाने की भी घोषणा की गई।

क्या है कामधेनु पशु बीमा योजना 

इस योजना की शुरुवात राज्य के मुख्यमंत्री ने सितम्बर को राज्य स्तरीय समारोह में पशुपालकों को बीमा पॉलिसी देकर की। इस योजना का का मुख्य उद्देश्य दुधारू पशुओं की अकाल मृत्यु होने के कारण संभावित नुकसान से पशुपालकों को सुरक्षा देना है। इस योजना के द्वारा प्रत्येक पशुपालक परिवार के लिए अधिकतम दो दुधारू पशुओं का बीमा किया जाएगा। अधिकतम 40 हजार रुपये तक प्रति पशु बीमा निःशुल्क किया जाएगा।

यह भी पढे : Vegetables to grow september : सितम्बर के महीने किसान भाई अपने खेतों मे लगाए ये सब्जियां, बनेगें मालामाल

वही सरकार द्वारा बजट घोषणा वर्ष 2023-24 के अनुसार महंगाई राहत शिविर में पंजीकृत पशुपालक परिवार को अधिकतम दो दुधारू पशु का 40 हजार रुपए तक प्रति पशु का बीमा किया गया है। महंगाई राहत कैंप में योजना के प्रति पशुपालकों के रूझान को देखते हुए राज्य सरकार ने 20 लाख के स्थान पर अब 40 लाख पशुपालकों को लाभान्वित करने तथा 40 लाख दुधारू गाय/भैंस के स्थान पर 80 लाख गाय/भैंस का बीमा किए जाने का निर्णय लिया है।

लम्पी जैसे बीमारियों मे भी योजना का लाभ

राज्य सरकार की इस बीमा योजना मे लम्पी जैसे रोग के प्रकोप के चलते पशु हानि झेलने वाले पशुपालकों को भी आर्थिक सम्बल का लाभ मिलेगा। इस योजना के माध्यम से पशुपालन के लिए किसानों का प्रेरित किया जाएगा तथा प्रदेश में डेयरी तथा दुग्ध उत्पादन को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस योजना के माध्यम से पशुपालन क्षेत्र में रोजगार बढ़ने की भी संभावना है। इससे पशुपालकों को आर्थिक सम्बल प्रदान होगा।

यह भी पढे : Solar pump subsidy in india : अधिकारियों ने किसानों किया सतर्क, बताया सोलर पम्प अनुदान पाने लिए कहाँ रुपये जमा करे

बीमा योजना का लाभ ले इस तरह

इस योजना के लिए केवल राजस्थान के पशुपालक किसान ही पात्र होंगे। इसके अलावा इस योजना के तहत पशु का बीमा दुग्ध उत्पादन के आधार पर किया जा रहा है। इस योजना मे पशुओ के बीमा के लिए पशुपालकों को प्रीमियम नहीं देना होगाराज्य सरकार शतप्रतिशत प्रीमियम राशि का भुगतान करेगी।

पशुपालक को मृत पशु की बीमित धनराशि का दावा करने के लिए अपने नजदीकी पशु पालन विभाग के कार्यालय में जाना होगा। योजना से संबंधित आवश्यक दस्तावेज को भरकर कार्यालय में जमा करवाना होगा। पात्रता सही पाए जाने पर बीमित धनराशि पशुपालक के बैंक खाते में हस्तांतरित की जाएगी। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here