Sunflower sowing season – फरवरी में सूरजमुखी की बुवाई से निश्चित तौर पर मिलेगी अच्छी पैदावार, पढ़ें पूरी जानकारी

0
754
Sunflower sowing season
Sunflower sowing season

फरवरी में सूरजमुखी की खेती – Sunflower Farming in February

सूरजमुखी (Sunflower) का पौधा जितना सुंदर होता है, उतना ही उपयोगी भी होता है। इसके फूल और बीजों में अनेक औषधियां खोजी जाती हैं, जो हृदय और कैंसर कोशिकाओं जैसी बड़ी बीमारी से बचाव में सहायक होती हैं। ऐसे में सूरजमुखी की खेती किसानों के लिए काफी फायदेमंद है, क्योंकि इससे निकलने वाला तेल (sunflower oil) खाने के काम आता है। इसलिए गाँव किसान (Gaon kisan) आज आपको फरवारी माह में सूरजमुखी की खेती (Sunflower sowing season) कैसे की जाती है.

सूरजमुखी की बुवाई प्रक्रिया – sunflower sowing season

वैसे तो सूरजमुखी को सभी मौसमों में लगाया जा सकता है, फिर भी इसकी बुवाई के लिए 15 फरवरी तक का समय उपयुक्त माना जाता है।

यह भी पढ़े : Terrace farming in India – टेरेस फार्मिंग क्या है ?

सूरजमुखी की उन्नत किस्में – sunflower farming variety 

इसकी बुवाई के लिए बड़ी श्रेणियों (sunflower farming seeds) का चयन आवश्यक है, इसलिए संकर किस्मों जैसे एमएसएफ आठ केबी, 44 पीएससी 36, एचएसएसएच 848 आदि का चयन किया जा सकता है। यह किस्म 95 दिनों में पक जाती है। इसमें 40 प्रतिशत तेल तो निकलता ही है साथ ही 8 से 10 क्विंटल प्रति एकड़ उत्पादन की पेशकश करता है। इसके अलावा देर से बुवाई के लिए संजियन 85, प्रोसन नाइन और एमएसएसएच 848 किस्में उत्कृष्ट हैं। सूरजमुखी की देर से बुवाई मार्च के पहले सप्ताह तक पूरी कर लेनी चाहिए। इसके अलावा, हरियाणा सूरजमुखी सूरजमुखी की अग्रणी उन्नत श्रेणी है, जिसे खेती के लिए आदर्श माना जाता है। इस श्रेणी के बीजों को बोने के लिए बीजों को 4 से 6 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। इसके बाद इसे पूरी तरह से रंग में सुखा लें और इसे बो भी दें।

सूरजमुखी की बुवाई कैसे करें – sunflower cultivation

संकर श्रेणियों के लिए लाइन से लाइन की दूरी 60 सेंटीमीटर और उन्नत किस्मों के लिए लाइन से लाइन तक 45 सेंटीमीटर की दूरी बनाए रखी जानी चाहिए। साथ ही पौधे से पौधे की दूरी 30 सेंटीमीटर गहरी, चार से पांच सेंटीमीटर बनाए रखने की जरूरत है।

उर्वरक की मात्रा 

संकर श्रेणी में बुवाई के समय 125 किलो सिंगल सुपर फॉस्फेट और 45 किलो यूरिया का प्रयोग करें। इसके बाद, 35 किलो यूरिया को उन्नत रेंज में और 45 किलो यूरिया प्रति एकड़ क्रॉसब्रीड किस्मों में इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़े : What is precision agriculture? – सटीक कृषि क्या है?

सिंचाई

इसके लिए पहली सिंचाई फसल बोने के 30 से 35 दिन बाद करनी चाहिए। इसके बाद 15 दिनों के अंतराल पर पानी देना चाहिए। इसकी अंतिम सिंचाई 75 दिनों के बाद करनी चाहिए।

फसल काटने का समय एवं उपज 

जब फूल पीले हो जाते हैं, उसके बाद पौधे को काटने की जरूरत होती है। इसके साथ ही फूलों को सुखाने के बाद, अनाज को छड़ी या थ्रेशर से विभाजित करने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार 8 से 10 क्विंटल औसतन उपज प्रति एकड़ हो जाती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here