VEGETABLE FARMING IN MAY | मई महीने में करे इन सब्जियों की खेती, होगा अधिक मुनाफा

0
52
VEGETABLE FARMING IN MAY
VEGETABLE FARMING IN MAY

VEGETABLE FARMING IN MAY | मई महीने में करे इन सब्जियों की खेती

मई के महीने से भरपूर गर्मी की शुरवात हो जाती है. ऐसे में इस महीने किसान भाई किन सब्जियों खेती (VEGETABLE FARMING IN MAY) करे, जिससे उन्हें अधिक मुनाफा हो सके. यह जानकारी बहुत कम लोगो को होती है.

इसलिए आज के लेख में गाँव किसान (Gaon Kisan) आप सभी को मई महीने में किन सब्जियों की खेती करे जिससे आप सभी अधिक मुनाफा कमा सके. तो आइये जानते है मई में की जाने वाली सब्जियों की खेती (VEGETABLE FARMING IN MAY) की पूरी जानकारी-

मई महीने में बोई जाने वाली सब्जी फसलें (Vegetable crops sown in the month of May)

मई महीने में किसान भाई निम्न सब्जी फसलों की बुवाई कर सकते है –

बैंगन की खेती (Eggplant cultivation)

बैंगन गर्मी में उगाई जाने वाली सब्जी फसल है. इसके लिए मई का यह महीना बैंगन की खेती के लिए सबसे उचित होता है.

बैंगन की खेती के लिए पोरस मिट्टी सबसे उचित मानी जाती है. क्योकि अच्छी फसल के लिए मिट्टी का अच्छा हो ना लाभकारी होता है. इससे आप के पौधे स्वस्थ और उपज अच्छी होगी.

इसके अलावा इसकी खेती में गोबर की सड़ी हुई खाद या वर्मी कम्पोस्ट खाद डाल सकते है. जिससे उपज अच्छी होगी. आप मुनाफ भी अधिक ले पायेगें.

बैंगन को आप खेत के अलावा घर पर या गमले में भी उगा सकते है. जो आप के परिवार को पर्याप्त फसल देगा.

यह भी पढ़े : Vetiver farming in India | Khas ki kheti | खस की खेती करेगी मालामाल

भिन्डी की खेती (Okra cultivation)

भिड़ी की खेती के लिए मई का महीना एकदम उचित होता है. इस महीने बोई गयी भिन्डी की फसल काफी अच्छी होती है. क्योकि भिन्डी खेती के लिए पर्याप्त धुप होना आवश्यक होता है.

भिन्डी की अच्छी उपज के लिए उपयुक्त मिट्टी की आवश्यकता होती है. इसके इसके खेती के लिए दोमट मिट्टी उपयुक्त होती है. इसके बीज आप नर्सरी से या घर पर भी बना सकते है.

इसको भी आप खेत के अलावा घर के किचन गार्डन में उगा सकते है. जिससे आप को घर पर ही भिड़ी की सब्जी उपलब्ध हो जाएगी. जो बिलकुल शुध्द होगी.

हरी प्याज की खेती (Green onion cultivation)

मई के गर्मी भरे महीने में आप हरी प्याज की खेती आसानी से कर सकते है. यह काफी स्वादिष्ट होने के साथ-साथ काफी पोषक तत्वों से भरपूर होता है. बाजार में इसकी मांग भी काफी होती है. किसानों को इसकी खेती से काफी अच्छा मुनाफा हो सकता है.

हरी प्याज की अच्छी उपज के लिए इसमें वर्मी कम्पोस्ट खाद का उपयोग कर सकते है. इसके अलावा इसमें उचित खाद व उर्वरक का प्रयोग करते है. जिससे इसकी अच्छी उपज प्राप्त हो सके.

हरी प्याज को भी खेत के अलावा घर के गमले में भी उगाया जा सकता है. इसके लिए प्याज के बीजों को रात भर पानी में भिगो दिया जाता है. इसके के बाद इन बीजों को मिट्टी में डालकर ऊपर से कोकोपीट की एक पतली परत चढ़ा देते है. और पानी का छिड़काव कर देते है.

लगभग आठ सप्ताह बाद हरी प्याज आप के सलाद के लिए तैयार हो जाती है.

यह भी पढ़े : Aloe vera farming in india | देश के किसान एलोवीरा की खेती कर कमाए लाखों

शिमला मिर्च की खेती (Capsicum cultivation)

शिमला मिर्च को उगाने के लिए मई का महीना एकदम उपयुक्त होता है. मई में लगाईं गई शिमला मिर्च की उपज आने वाली कई महीनों तक हमें मिलती रहती है. इसकी खेती के लिए बीज आप स्टोर से खरीद कर या स्वयम मिर्च काटकर बीजों को धूप में सूखाकर तैयार कर लेते है.

शिमला मिर्च की खेती के लिए हलकी मिट्टी की आवश्यकता होती है. जिससे इसके पौधों की जड़े मिट्टी के अन्दर अपनी पैठ बना सके.

पौधे लागने के लिए आप इन्हें नर्सरी में तैयार कर ले. इसके बाद आप इन्हें अपने खेत या हर पर किचेन गार्डन या गमले में लगा सकते है. जिससे आप को घर पर ही शिमला मिर्च उपलब्ध हो सके. आप अपनी सब्जी या सलाद में इसका प्रयोग कर सके.

अन्य पूछे जाने वाले प्रश्न (Other FAQ)

प्रश्न : गर्मी में कौन सी खेती करें?

उत्तर : कपास की खेती,मूंग की खेती, ग्वार की खेती, अरहर की खेती, मिक्का की खेती, धान की खेती, मुगफली की खेती, सोयाबीन की खेती, आदि फसलों की खेती की जाती है.

प्रश्न : गर्मी में कौन सी सब्जी लगाना चाहिए ?

उत्तर : इसके अलावा आप गर्मियों के मौसम में करेला, भिंडी, घीया, तोरी, टिंडा, लोबिया, ककड़ी आदि कई हरी सब्जियों को आसानी से किचन गार्डन में ही उगा सकते है

प्रश्न : सबसे ठंडी सब्जी कौन सी है?

उत्तर : गर्मी में खीरे को सबसे ज्यादा खाया जाता है क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है। इसके अलावा खीरे में विटामिन ए, फाइबर, फॉलिक एसिड आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं।

प्रश्न : कौन कौन सी सब्जी की तासीर ठंडी होती है?

उत्तर : ऐसे में ठंडी तासीर वाली कमल ककड़ी का सेवन काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। साथ ही इसमें फाइबर भी पर्याप्त मात्रा में होता है जो आपके पेट को दुरुस्त रखने में मदद कर सकता है।

दोस्तों यह लेख आपको कैसा लगा, कमेन्ट कर जरुर बताये. इसके अलावा गाँव किसान के लेख आपको पसंद आ रहे है तो लाइक, शेयर और सब्सक्राइब वाला लाल बेल जरुर दबाए. आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here