किसानों को नींबू,आंवला,बेल और कटहल पर यह राज्य सरकार दे रही है अनुदान, इस तरह आवेदन कर ले योजना का लाभ

0
agriculture schemes in india
राज्य सरकार दे रही है अनुदान

किसानों को नींबू,आंवला,बेल और कटहल पर अनुदान

देश के किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा समय-समय पर विभिन्न योजनाओं (agriculture schemes in india) के द्वारा सहायता की जाती है. वही बागवानी करने वाले किसानों को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा बागवानी फसलों की खेती पर अनुदान उपलब्ध कराया जा रहा है. जिससे उद्यानिकी की फसलों का उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ किसानों की भी आमदनी बढ़ सके मेरा महीना. इसी कड़ी में बिहार की राज्य सरकार द्वारा वाला नींबू, बेल, आंवला और कटहल की खेती करने वाले किसानों को प्रोत्साहन सहायता के रूप में अनुदान दिया जा रहा है. जिसके लिए किसानों से उद्यानिकी की विभाग द्वारा आवेदन मांगा गया है.

फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत बिहार सरकार (bihar government) द्वारा शुष्क बागवानी कार्यक्रम के तहत आंवला,नींबू,बल और कटहल की खेती (jackfruit cultivation) करने वाले किसानों को अनुदान दिया जा रहा है. इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी किसान को न्यूनतम पांच पौधे और अधिकतम चार हेक्टेयर रकबे के लिए इन बागवानी फसलों के पौधे सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत अनुदान दिए जाएंगे.

किसान भाई योजना के तहत पाएंगे इतना अनुदान

इस फसल विविधीकरण योजना को शुष्क बागवानी कार्यक्रम (gardening program) के अंतर्गत राज्य के सात जिलों में ही अभी तक चलाया जा रहा है. सरकार की इस योजना के अंतर्गत जो भी किसान भाई आंवला, नींबू, बेल और कटहल की खेती कर रहे हैं. उसमें आने वाली लागत का 50% वह भी अधिकतम ₹50000 प्रति हेक्टेयर का अनुदान सरकार द्वारा दिया जाएगा. वही किसान भाई प्रति हेक्टेयर आंवला और नींबू के 400 पौधे तथा बेल और कटहल के 100 पौधे ही लगा सकते हैं. अभी तक यह योजना राज्य के गया ,जमुई, मुंगेर, नवादा, औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास जिलों में शुरू की गई है.

यह भी पढ़े : पशुपालकों को अपने पशुओं को कितना आहार खिलाना चाहिए, कि उनकी दूध देने की क्षमता हो अधिक, आइये जाने

वहीं सरकार द्वारा जलवायु परिवर्तन (Climate change) एवं फसल विविधीकरण को देखते हुए, इन उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने का फैसला लिया है. इसीलिए सरकार द्वारा योजना में उन्ही जिलों का चयन किया गया है, जहां मानसून के दौरान बारिश कम होती है. सरकार द्वारा चलाई गई इस योजना से शुष्क फलों की खेती से जहां किसानों की आय बढ़ेगी, वहीं पेड़ों की संख्या को बढ़ावा भी मिलेगा. क्योंकि इन क्षेत्रों में फलों के पेड़ों की कमी आई गई थी.

योजना के अंतर्गत अनुदान के लिए किसान कहां करें आवेदन

किसानों को इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन (Online Application) करना होगा. वहीं पर आपको जानकारी देते चले, कि इस योजना के आवेदन की प्रक्रिया सरकार द्वारा शुरू की जा चुकी है, ऐसे में जो भी किसान भाई इस योजना का लाभ पाना चाहते हैं उनके पास सबसे पहले 13 अंकों की डी०बी०टी० संख्या होनी जरूरी है. जिन किसानों के पास यह डी०बी०टी० संख्या नहीं है, वह किसान इसकी ऑफिशल वेबसाइट https://dbtagriculture.bihar.gov.in/ पर जाकर पंजीकरण कर अपनी संख्या प्राप्त कर ले. उसके अपरांत योजना का लाभ लेने के लिए योजना की ऑफिशल वेबसाइट https://horticulture.bihar.gov.in/ पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : पान की खेती करने वाले किसानों को राज्य सरकार देगी ट्रेनिंग, पान की इन दो किस्मों की खेती से किसान बनेगें मालामाल

किसान भाई इस योजना से जुड़ी हुई किसी भी जानकारी के लिए संबंधित जिला के सहायक निदेशक से संपर्क कर पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए किसान भाई उद्यान विभाग की वेबसाइट पर भी जाकर पूरी जानकारी ले सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here