Home किसान समाचार गुजरात में हुआ ड्रोन टेक्नोलॉजी से नैनो यूरिया का खेतों में छिड़काव,...

गुजरात में हुआ ड्रोन टेक्नोलॉजी से नैनो यूरिया का खेतों में छिड़काव, मुख्यमंत्री बोले यह है कृषि विमान

0
ड्रोन टेक्नोलॉजी से नैनो यूरिया का खेतों में छिड़काव

 ड्रोन टेक्नोलॉजी से नैनो यूरिया का खेतों में छिड़काव 

देश के किसानों  को कृषि से बेहतर उपज मिल सके. इसके लिए उन्नत तकनीक का इस्तेमाल कृषि में हो, सरकार व राज्य सरकार नई-नई तकनीकों का बढ़ावा देकर किसानों को प्रोत्साहित कर रही हैं. जिससे उनकी आय दोगुनी हो सके. साथ ही कम लागत में अधिक उपज ले सके. इसी कड़ी में गुजरात राज्य के गांधीनगर जिले में पहली बार शुक्रवार को ड्रोन तकनीक से नैनो यूरिया का खेतों में छिड़काव किया गया. सरकारी सूत्रों के अनुसार दुनिया में पहली बार गुजरात के गांधीनगर जिले के इसनपुर मोटा गांव से ड्रोन तकनीक के जरिए खेतों में नैनो यूरिया का छिड़काव कर नई तकनीक का की शुरुआत की गई.

यह भी पढ़े : क्या उन किसानों को 12वीं किस्त के पैसे मिल पाएंगे जिन्होंने नहीं करवाई है ई-केवाईसी

राज्य सरकार की इस ऐतिहासिक पहल की शुरुआत मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल द्वारा ड्रोन में न्यू नैनो यूरिया भरने के बाद ड्रोन को ऑपरेट कर की गई. इस शुरुआत के अवसर पर उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों की आय दोगुनी करने के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं. साथ ही खेत में लगने वाली लागत को भी कम करके उत्पादकता को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है. और गुजरात में इस आधुनिक तकनीक का उपयोग कर दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया गया है.

ड्रोन तकनीक को बताया कृषि विमान 

राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा ड्रोन को कृषि विमान-किसान का विमान बताते हुए ड्रोन तकनीक के जरिए खेतों में नैनो यूरिया के छिड़काव की सौ फ़ीसदी राज्य प्रायोजित योजना का शुभारंभ किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. इस तरह मौजूदा समय में अब किसी को देश के लिए मर मिटने की जरूरत नहीं है. अब हर किसी को इसी तरह का जीवन जीने की जरूरत है. कि जिससे देश का गौरव बढ़ाएं बढ़ जाए.हमें इसी तरह जीवन जीना है. जिससे प्राकृतिक संपदा का जतन और संबंधित संवर्धन आसानी से हो सके. 

यह भी पढ़े : गाय की यह नस्ल देगी 60 लीटर रोजाना दूध, किसान भाई बन सकेंगे मालामाल

गुजरात बनेगा ग्रोथ इंजन

इस शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री पटेल द्वारा कहां गया, इस तकनीक से नैनो यूरिया के उपयोग से रासायनिक खाद के आयात पर खर्च होने वाली विदेशी मुद्रा की बचत होगी. साथ ही अनुदान का भी खर्च घट भी जाएगा. इसके अलावा ड्रोन तकनीक के इस्तेमाल से नैनो यूरिया में उपयोग होने वाला पानी भी बचेगा. इस तरह इन छोटी-छोटी बातों से देश की बड़ी सेवा हो सकेगी. इसके अलावा उन्होंने कहा प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है और गुजरात देश का ग्रोथ इंजन बनेगा.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version