अब देश के किसान कहीं भी उगा सकेगें केसर, इस तकनीकी का करे इस्तेमाल, हो जायेगे मालामाल

0
92
Indoor Saffron Farming 
केसर की खेती के लिए इंडोर फार्मिंग तकनीक

केसर की खेती के लिए इंडोर फार्मिंग तकनीक | Indoor Saffron Farming 

केसर की खेती का नाम आते ही कश्मीर या अन्य पहाड़ी क्षेत्रों क का नाम सबसे आगे आता है. लेकिन अब कश्मीर के साथ-साथ भारत के कई अन्य राज्यों के किसानों ने भी खेती की शुरुवात कर दी है.

देश के अन्य राज्यों में केसर की खेती इंडोर फार्मिंग तकनीक के कारण संभव हो पायी है. केसर की इंडोर फार्मिंग तकनीक से खेती का शुरुवाती प्रयोग कश्मीर में किया गया था, लेकिन अब इसे देश के अन्य राज्यों के किसान भी अपना रहे है.

जून से सितम्बर के बीच शुरू करे केसर की खेती

केसर काफी कीमती होती है. इसका बाजार भाव 3 लाख रूपये किलो तक रहता है. इसकी खेती के लिए जून, जुलाई, अगस्त, सितम्बर सबसे उपयुक्त माना जाता है. केसर की खेती की उपज 3 से 4 महीने में तैयार हो जाती है.

केसर की अच्छी उपज के लिए धूप सबसे महत्वपूर्ण होती है. इसकी खेती के लिए तटस्थ, बजरी, दोमट और रेतीली मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है. लेकिन अब किसान इसकी खेती कहीं भी किसी भी मौसम में कर सके तथा खर्चे भी कम आये इसके लिए इंडोर फार्मिंग तकनीक की शुरुवात कर सकते है

यह भी पढ़े : किसान भाई खेत के किनारे-किनारे करे इसकी खेती , होगी बम्पर कमाई

केसर की इंडोर फार्मिंग खेती कैसे करे ?

केसर की खेती की इंडोर फार्मिंग के लिए एक बंद अँधेरे कमरे की आवश्यकता होती है. इस कमरे में बिलकुल भी रोशनी नही होनी चाहिए. क्योकि रौशनी पहुचने से केसर की खराब होने की सम्भावना ज्यादा हो जाती है. इंडोर फार्मिंग के लिए केसर के कार्म को लगभग  3 महीने तक बंद अधेरे कमरे में रखा जाता है. इसके उपरांत केसर की उपज कटाई के लिए तैयार हो जाती है. इस दौरान कमरे का तापमान तकरीबन 20 डिग्री रखना चाहिए.

यह भी पढ़े : नीम से बने कीटनाशको के प्रयोग से होगी फसलों की दूनी उपज, होगा दूना मुनाफा

किसानों के लिए इंडोर फार्मिंग कैसे है लाभदायक

केसर की खेती के लिए इंडोर फार्मिंग किसानों के लिए एक बरदान साबित हुई है. किसान भाई द्वारा कमरे में केसर की खेती कमरे से समय, श्रम और पैसे तीनों की बचत होती है. इस विधि में फसल पर मौसम का भी असर नही होता है. इस तरह किसान की लागत के मुकाबले मुनाफा कई गुना ज्यादा मिलता है. केसर की शुष्क कुक्षियों को केसर कुंकुम, जाफरान अथवा सैफ्रान कहा जाता है.

बाजार में एक किलों केसर का मूल्य लगभग 3 लाख रुपये तक है. इस तरह किसान भाई अगर महीने 2 किलो केसर बेचे तो 6 लाख का मुनाफा होगा. केसर को किसान भाई ऑनलाइन भी बेच सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here