किसान भाई अब घर के अन्दर उगा सकते है दुनिया का सबसे महंगा मसाला, आइये जाने कैसे

0
Kesar ki kheti
केसर की खेती घर पर कैसे करे?

Kesar ki Kheti | केसर की खेती घर पर कैसे करे?

Kesar ki kheti : प्राचीन काल से हमारा देश भारत मसालों के लिए प्रसिध्द है. क्योकि देश में कई तरह के मसालों की खेती की जाती है. जिनका निर्यात विदेशों तक में किया जाता है. इन मसालों में कुछ ऐसे मसाले भी है. जिनकी कीमत बहुत ज्यादा होती है. यहाँ तक यह सोने से भी कीमती होते है. इसी कड़ी में हम आपको केसर की खेती की जानकारी देगे. क्योकि बाजार में इसकी कीमत पांच लाख रूपये प्रति किलोग्राम तक इसकी कीमत होती है.

जब केसर की खेती (Saffron Farming) की बात होती है तो अधिकतर किसानों यही सोचते है कि इसकी खेती पर्वतीय क्षेत्रों खासकर जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में ही की जा सकती है. क्योकि इसकी खेती के लिए ठंडे और कम तापमान वाले क्षेत्रों की जरुरत होती है. लेकिन अब गर्म क्षेत्रों में रहने वाले किसान भी इसकी इसकी खेती कर सकते है. इसमें कुछ तकनीकों की सहायत लेनी पड़ती है. वहां देश के महाराष्ट्र राज्य के कुछ किसान भाई इन तकनीको को अपना कर केसर की खेती से अच्छा मुनाफा कमा रहे है.

केसर की खेती घर पर कैसे करे किसान

इसकी खेती किसान भाई अब घर पर कर सकते है. इसके लिए उन्हें घर के एक कमरे की आवश्यकता होगी. वही तकनीकी सहायता से किसान भी कमरे का तापमान नियंत्रित करना होगा, जैसा कि कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के केसर वाले क्षेत्रों में होता है. बस आप के कमरा केसर की खेती के लिए तैयार हो जायेगा.

यह भी पढ़े : चने की खेती किसानों को बनाएगी मालामाल, इस दिसम्बर महीने में करे ये जरुरी काम

किसान भी जिस भी कमरे में केसर की खेती का उत्पादन लेना चाहते है. वहां पर एरोपोनिक तकनीकी का इस्तेमाल करके ढांचा तैयार कर ले. साथ ही उस कमरे में हवा की उचित व्यवस्था करनी पड़ेगी.

क्या-क्या करना होगा केसर की खेती वाले कमरे में?

केसर की खेती (Kesar Farming) करने वाले किसान को कमरे का तापमान का निर्धारण करना जरुरी होता है. इसके लिए किसान भाई अपने कमरे का दिन में तापमान 17 डिग्री सेल्सियस रखना होग. वही रात में 10 डिग्री सेल्सियस तापामान होना आवश्यक है. इसके अलावा कमरे की ह्यूमिडिटी 80–90 डिग्री रखनी होगी.

केसर की खेती के लिए दोमट, चिकनी या रेतीली मिट्टी इसकी खेती के लिए काफी अच्छी होती है. जो किसान भाई एरोपोनिक ढांचे का निर्माण करने के उपरांत किसान उपयुक्त मिट्टी का चुनाव कर भुरभुरा बनाकर डालना चाहिए.

किसान भाई इस बात का ध्यान रखे डाली गयी मिट्टी में जल जमाव न होने पाए. अन्यथा पौधे ख़राब हो जायेगें. किसान भाई इस बात का ध्यान रखे  केसर की फसल को हल्की सिंचाई की आवश्यकता होती है.

यह भी पढ़े : इस योजनाओं के लिए किसानों को तुरंत करना चाहिए आवेदन, आय में होगी कई गुना बढ़ोत्तरी

केसर की खेती (Saffron Farming ) की अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए किसान भाई खाद एवं उर्वरक का संतुलित उपयोग कर सकते है. इसकी अच्छी उपज के लिए फास्फोरस, पोटाश, नाइट्रोजन एवं गोबर की सड़ी हुई खाद की आवश्यकता होती है.

विश्व का सबसे महंगा मसाला है केसर

केसर दुनिया के सबसे महंगे मसालों (Most expensive spice) में से एक है. क्योकि इसकी खेती के लिए खास स्थान और वातावरण की आवश्यकता पड़ती है. देश में सबसे अच्छा केसर कश्मीर के बडगाम में उगाया जाता है. इसकी कीमत पांच लाख रूपये प्रति किलोग्राम तक होती है. वही अब देश के सबसे मांगें मसाले की खेती देश के अन्य क्षेत्रों के किसान भी कर रहे है और अच्छा लाभ भी कमा रहे है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here