Home किसान समाचार केले की खेती को इस तकनीक से करने पर बिहार सरकार देगी...

केले की खेती को इस तकनीक से करने पर बिहार सरकार देगी अनुदान, जानिए पूरी खबर

0
38
Subsidy for doing tissue culture technology
खेती को टिशू कल्चर तकनीक से करने पर अनुदान

केले की खेती को टिशू कल्चर तकनीक से करने पर अनुदान

किसानों को खेती से अधिक लाभ मिल सके. इसके लिए कृषि वैज्ञानिकों द्वारा नई-नई तकनीकों की खोज की जा रही है. इन तकनीकों से किसानों को उपज से काफी लाभ मिलता है. इसीलिए इन तकनीकों को सरकार द्वारा समय-समय पर प्रोत्साहित किया जाता है. कि किसान भाई नई-नई तकनीकों से अपनी खेती को करें. जिससे उन्हें अच्छी उपज के साथ अच्छी आमदनी हो सके. जिससे उनकी आय दूनी हो सके.

इसी कड़ी में बिहार सरकार द्वारा केले की खेती को प्रोत्साहन देने के लिए अनुदान योजना जारी की है. इस योजना के तहत सरकार द्वारा टिशू कल्चर तकनीक द्वारा जो भी किसान भाई केले की खेती करेंगे. उन किसानों को एकीकृत बागवानी विकास मिशन (MIDH) योजना के अंतर्गत केला प्रति इकाई के लिए 50% तक का अनुदान दिया जाएगा. जिससे वह केले की खेती अच्छी तरह से कर सकें. और इससे अच्छा मुनाफा कमा सकें.

यह भी पढ़े : इस राज्य के किसान खेतों की सिंचाई के लिए नए ट्रांसफार्मर पा सकेंगे मात्र 2 घंटे में

टिशू कल्चर  तकनीक से खेती पर इतना मिलेगा अनुदान

बिहार की राज्य सरकार द्वारा टिशू कल्चर तकनीक को बढ़ावा देने के लिए, किसानों को अनुदान दिया जा रहा है.  इस तकनीक से खेती करने वाले किसानों को एक हेक्टेयर में ₹125000 की लागत आ जाती है. सरकार द्वारा किसानों का इसका 50% यानी ₹62500 अनुदान दिया जाएगा. इसके अलावा बाकी 50% किसानों को खर्च करने होंगे. इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को योजना की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा. इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट http://horticulture.bihar.gov.in/ है.

टिशू कल्चर तकनीक आखिर है क्या

टिशू कल्चर तकनीक द्वारा केले की खेती करने के लिए उन्नत प्रजातियों की पौध तैयार की जाती है. इस तकनीक के द्वारा पौधे स्वस्थ और रोग रहित रहते हैं. इसके अलावा इनका विकास भी अच्छा होता है. तथा इनमें पुष्पन भी एक ही साथ होता है. इनके फलों का आकार 1 साइज का होता है. जिससे किसानों को इनके फलों की कीमत अच्छी मिलती है.

यह भी पढ़े : तिल की खेती में लगने वाले प्रमुख कीट एवं इनका नियंत्रण कैसे करें ?

इस तकनीक से जल्दी तैयार होती है फसल

टिशू कल्चर की तकनीक अपनाने वालों किसानों की उपज रोपड़ के बाद 12 से 14 माह में तैयार हो जाती है. लेकिन वही आम तरीके से तैयार के लोग की फसल की उपज लेने में 17 से 18 महीने का समय लग जाता है. इसके अलावा एक पौधे से किसान 60 से 70 किलोग्राम की उपज हासिल कर सकता है. वही साधारण तरीके से तैयार पौधों की फसल में किसानों को कम ही उपज मिलती है. इसीलिए टिशू कल्चर तकनीक से खेती करने वाले किसानों की केले की खेती के जरिए अच्छी आमदनी हो जाती है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here