Gram Pod Borer : चने की फसल में किसान भाई फली बेधक कीट का नियंत्रण कैसे करें, आइए जाने 

0
31
Gram Pod Borer
चने का फली बेधक कीट

चने का फली बेधक कीट | Pod Borer of Gram

भारत में उगाई जाने वाली दलहनी फसलों में से चना (Gram) सबसे पुरानी और महत्वपूर्ण फसल है. इसका प्रयोग मुख्य रूप से दाल और रोटी के  के लिए किया जाता है. इससे अन्य व्यंजन भी तैयार किए जाते हैं. देश में इसकी खेती मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, बिहार और महाराष्ट्र में की जाती है. मध्य प्रदेश राज्य देश के कुल उत्पादन का के लिए 40% चुनाव होता है.

देश के इस समय कई भागों में किसान भाई चने की खेती (Chane ki Kheti) कर रहे है. लेकिन कई कीट इसकी फसल को काफी नुकसान पहुंचाते हैं. जिससे किसानों को उपज में हानि उठानी पड़ती है. इसी कड़ी में आज के इस लेख में हम आपको चने के फसल के फली बेधक कीट (Fali bedhak kit) के बारे में पूरी जानकारी देंगे. जिससे किसान भाई इस फली बेधक कीट से अपनी फसल की सुरक्षा कर सकें और अच्छी उपज लेकर लाभ कमा सके. तो आइए जानते हैं चने के फली बेधक कीट (Gram Pod Borer) के बारे में पूरी जानकारी-

यह भी पढ़े : Pili Sarson ki Kheti : उत्तर प्रदेश के किसान पीली सरसों की खेती कैसे करें ? जिससे वह बन सके मालामाल

कीट की पहचान कैसे करें (Gram Pod Borer)

इस फाली बेधक कीट को हेलिकोवर्पा आर्मिजेरा (हुबनर) भी कहते है. यह एक बहुभक्षी कीट है. जो पूरे भारत में चने की फसल को नुक्सान पहुचता है. चने के इस फली बेधक कीट सूड़ियाँ हरे अथवा भूरे रंग की होती हैं. सामान्यतः पीठ पर काली लंबी धारी तथा किनारे दोनों तरफ पतली लंबी धारियां पाई जाती हैं.चने का यह कीट फूलों एवं फलियों के बनते समय फसल को नुकसान पहुंचाता है.दो छोटी अथवा एक बड़ी सूडी 10 पौधों को नुकसान पहुचती है. इसके अलावा यह कीट 181 प्रकार की फसलों एवं 48 प्रकार की खरपतवारों को खाता है.

फली बेधक कीट द्वारा चने को नुकसान

इस कीट की नवजात सूड़ियाँ शुरुआत में चने की कोमल पत्तियों को खुरच-खुरच कर खाती है. बाद में यह बड़ी होने पर फलियों में छेद बनाकर सिर को अंदर कर कर दानों को खाती है. जिससे दाने वाली फली अन्दर से खोखली हो जाती है. एक सूडी अपने जीवन काल में 30 से 40  फलियों को नुकसान पहुंचाती है. खेत में कीट का तीव्र प्रकोप होने से चने की सभी फलियां खोखली हो जाती है. जिससे किसान भाइयों को चने की उपज में काफी नुकसान उठाना पड़ता है.

यह भी पढ़े : इस राज्य के 33,000 किसानों का कर्जा होगा माफ़, राज्य सरकार द्वारा जारी किया गया आदेश

चने के फली बेधक कीट का नियंत्रण 

चने के इस कीट का नियंत्रण किसान भाई निम्न तरीके से कर सकते है-

  • किसान भाई को अपने चने के खेत में प्रति हेक्टेयर 50 से 60 बर्ड पर्चर लगा लेना चाहिए. जिससे चिड़ियाँ इस पर बैठ कर सूड़ियाँ खा सके.
  • अपने चने की फसल की किसान भाई निगरानी करते रहे. फूल एवं फलियाँ बनते समय फली बेधक कीट के लिए 5 गंधपाश प्रति हेक्टेयर की दर से खेत में लगाना चाहिए.
  • किसान भाई अगर फली बेधक कीट का रासायनिक तरीके से नियंत्रण करना चाहते हैं, तो इसके नियंत्रण के लिए एन०पी०वी०(एच) 250 एल० ई० प्रति हेक्टेयर लगभग ढाई सौ से 300 लीटर पानी में घोलकर शाम के समय में छिड़काव करें.
  • इसके अलावा किसान भाई बेसिलस थूरिन्जिएन्सिस (बी०टी०) की कर्स्टकी प्रजाति 1.0 किग्रा० अथवा एन०पी०वी० ऑफ़ हेलिकोवर्पा आर्मीजेरा 2% ए० एस० 250-300 मिली० को 500 से 600 लीटर पानी में मिलाकर प्रति हेक्टेयर छिडकाव करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here