किसानों के लिए सरकार का सख्त निर्देश,नहीं मिलेगी किसान सम्मान निधि,अगर खेत में जलाई पराली 

0
21
strict instructions from the government
अगर खेत में जलाई पराली 

नहीं मिलेगी किसान सम्मान निधि,अगर खेत में जलाई पराली 

देश के उत्तरी राज्य में इस समय धान की कास्ट की कटाई जारी है. इसीलिए इन क्षेत्रों में पराली जलाने जाने की ज्यादातर घटनाएं देखने को मिल रहे हैं. जिसको लेकर राज्य सरकारों द्वारा किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए अलग-अलग प्रावधान किए जा रहे हैं. इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पराली जलाने के संबंध में एक बड़ा और सख्त फैसला लिया गया है.

यह भी पढ़े : जानवर फसल कर रहे हैं बर्बाद, तो किसान भाई आजमाएँ यह तरीका, होगा दो गुना मुनाफा

सरकार का बड़ा और सख्त फैसला

उत्तर प्रदेश राज्य की योगी सरकार द्वारा यह बड़ा फैसला लिया गया है. कि जिन किसानों द्वारा  पराली जलाई गई उन किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का मिलने वाला ₹6000 अब नहीं दिया जाएगा. क्योंकि खेत में पराली जलाने के कारण यह पर्यावरण के लिए बहुत बड़ा खतरा बनती जा रही है. इसके अलावा इससे वायु प्रदूषण भी बहुत तेजी से फैलता है. इसीलिए इसको लेकर राज्य सरकार काफी सख्त हो गई है. सरकार द्वारा ज्ञान देने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर में लिया गया.

किसानों को देना होगा कितने रुपए का जुर्माना

पराली जलाने को लेकर अभी तक जो सरकार द्वारा नियम बनाए गए हैं. उनके तहत अगर कोई किसान पराली जलाता हुआ पाया गया. तो 1 एकड़ जमीन वाले किसान पर ₹2500 का जुर्माना वसूला जाएगा. इसके अलावा जिन किसानों के पास 1 एकड़ से अधिक जमीन पाई जाती है. तो उनसे पराली जलाने पर ₹5000 तक का जुर्माना वसूला जाएगा.

यह भी पढ़े : प्राकृतिक आपदाओं से बर्बाद फसल की सूचना पर 72  घंटे के अंदर मिल जाएगा फसल का पूरा मुआवजा 

सरकार द्वारा की जाएगी सख्त कार्रवाई

सरकार द्वारा पराली जलाने पर सख्त कार्रवाई की जा रही है. इस बारे में कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर अरविंद कुमार द्वारा बताया गया, कि लगातार ऐसी शिकायतें मिलती थी. लेकिन अब सेटेलाइट से मिली तस्वीरों के आधार पर कार्रवाई होने पर पिछले साल 23 मामले आए थे. इस बार केवल एक ही मामला ऐसा पाया गया. इससे अनुमान लगाया जा सकता है. कि लोग जागरूक हो रहे हैं और पराई जलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here