तुष धब्बा रोग गेहूं की फसलों को पहुंचता है नुकसान, आइये जाने किसान भाई इस रोग से अपनी फसलों का बचाव कैसे करे 

0
gehoon tush dhabba rog
गेहूं की खेती का तुष धब्बा रोग

गेहूं की खेती का तुष धब्बा रोग 

रबी की फसलों के इस मौसम में गेहूं की फसलों को सबसे ज्यादा नुकसान रोग पहुचाते है. इसलिए गाँव किसान अपने लेखों में गेहूं के खेती के प्रमुख रोगों की जानकारी किसानों के लिए लेकर आया है. इसी कड़ी में आज गेहूं के पांचवे नंबर के रोग की चर्चा की जायेगी. गेहूं का यह रोग है तुष धब्बा रोग.

आप इस लेख में तुष धब्बा रोग के लक्षण, प्रकोप क्षेत्र, प्रकोप का समय, रोग की अनुकूल परिस्थियाँ और रोग का नियंत्रण कैसे करे की जानकारी दी जाएगी. जिससे किसान भाई इस तुष धब्बा रोग से अपनी फसलों को बचा सके. जिससे वह गेहूं की खेती से अधिक उपज प्राप्त कर अधिक मुनाफा कमा सके. तो आइये जाते है गेहूं की खेती के तुष धब्बा रोग की पूरी जानकारी –

यह भी पढ़े : इस राज्य सरकार द्वारा नई योजना को दी गयी मंजूरी, किसान भाई पर सकेगे 22 हजार रूपये सालाना 

तुष धब्बा रोग की पहचान 

इस रोग के लगने से फसल के तुष पर पतले और अंडाकार धब्बे के अलावा गाठों और पोरियों पर भी दिखाई देते है. तुष पर धब्बे भूरे रंग के और 4-5 x 2-3 मि०मी० आकार के होते है. इनमे छोटे-छोटे काले-बिंदु- पिक्निडियम स्पष्ट दिखाई देते है.

रोग के प्रकोप क्षेत्र 

तुष धब्बा रोग पंजाब और उत्तरी भारत के कई अन्य क्षेत्रों काफी अधिक पाया जाता है. इसलिए उतर भारत किसान भाई गेहूं के इस रोग को लेकर काफी सतर्क रहे. अन्यथा रोग लगने पर किसान भाइयों को नुकसान उठाना पड़ सकता है. 

रोग के प्रकोप का समय एवं शुरुवात 

इस रोग की शुरुवात मार्च से अप्रैल महीने के बीच होती है. पौधे अवशेषों पर पिक्नीडियम गर्मी में जीवित रहते है. ये बीजाणु नयी फसल पर संक्रमण करते है. यह रोग बीजोढ़ भी होता है. 

तुष रोग की अनुकूल परिस्थितियां 

यह रोग नम मौसम में अधिक फैलता है. जबकि गर्म वाला वातावरण इस रोग के लिए अनुकूल होता है.

यह भी पढ़े : किसान भाइयों क्या आपको गेहूं की खेती में हेल्मिन्थोस्पोरियम रोग के बारे जानकारी है अगर नही है तो पढ़िए इस पूरे लेख को 

रोग का नियंत्रण कैसे करे 

किसान भाई रोग से बचाव के लिए निम्न उपाय कर सकते है-

  • बीज बुवाई से पहले किसी अच्छे कवकनाशी से बीजोपचार करे.
  • फसल कटाई के बाद अवशेष को जला देना चाहिए.
  • रोग रोधी किस्मों का ही चुनाव करना चाहिए.
  • पी०वी०-18, कल्याण 227, एस 308, एस 307, एस 331, के-68 आदि रोग रोधी किस्में है.
  • जबकि वल्गेरी की जातियां रोग ग्राही होती है. 
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here