साल में 4 बार इसकी फसल लगाकर किसान भाई कमा सकते है लाखों, सरकार भी इसके लिए करती आर्थिक मदद

0
baby corn farming Business Idea
बेबी कॉर्न की खेती में है अच्छा मुनाफा 

बेबी कॉर्न की खेती में है अच्छा मुनाफा 

भारत के ज्यादातर लोग अपनी आजीविका के लिए खेती का कार्य करते है. इसीलिए इसे कृषि प्रधान देश भी कहा जाता है. लेकिन आज जिस तरह से मंहगाई बढ़ी है, उससे परम्परागत खेती एक घाटे का सौदा साबित हो रही है. क्योकि इसमें लागत बहुत आती है और मुनाफा भी काफी कम होता है. और कभी-कभी हानि भी उठानी पड़ती है. ऐसे में हम आपको आज एक ऐसे खेती की जानकरी देगें जिसे आप साल में 3-4 बार उगा कर शानदार मुनाफा कमा पायेगें. यह खेती है बेबी कॉर्न की, जिसकों करके आप मोटी कमाई कर सकते है.

देश की बाजार में बेबी कॉर्न मक्का की मांग तेजी से बढ़ी है. क्योकि यह हमारी सेहत के लिए काफी उपयोगी बताया गया है. इसमें ढेर सारे पोषक तत्व पाए जाते है.इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेड, कैल्सियम, प्रोटीन और विटामिन होता है. आज के समय में इसके फायदों को देखेते हुए इसकी मांग फाइव स्टार होटलों, पिज्जा चेन, पास्ता चेन, रेस्टोरेंट, यहां तक कि शादी पार्टी में खूब की जाती है. ऐसे में किसान भाई इसकी खेती कर इसकी मांग को पूरा कर सकते है. जिससे वह अच्छी खासी कमाई कर लाभ कमा सकते है. तो आइये विस्तार पूर्वक जानते है बेबी कॉर्न की खेती की पूरी जानकरी –

यह भी पढ़े : किसान भाई सरकार के सहयोग से खेती के जुड़े हुए इन 3 व्यवसाय कर, पूरे साल कमायेगें अच्छा लाभ

बेबी कॉर्न को तैयार होने में लगता है इतना समय

देश के किसान इसकी खेती पूरे साल कर सकते है. यह मक्का का शुरुवाती रूप होता है. आप को जानकारी दे दे कि जब मक्का 1 से 3 सेमी लंबा होता है और उसमें दाने नहीं आते है. और इसमें सिल्क आ जाता है. तब ही इसे तोडा जाता है. बुवाई के उपरांत इसकी फसल को तैयार होने में 40 से 50 दिन समय ही लगता है. इस तरह आप इसकी खेती साल में 3 से 4 बार कर सकते है. अन्य फसलों की खेती के मुकाबले इसमें समय और खर्च भी कम आता है एवं परेशानी भी कम उठानी पड़ती है. इस तरह यह किसानों के लिए यह एक फायदे का सौदा मानी जा सकती है.

किसानों को होगा डबल फायदा 

बेबी कॉर्न की खेती से किसानों को दो तरफा फायदा होगा. एक इससे वह बेबी कॉर्न प्राप्त कर पायेगें और दूसरी तरफ वह इसकी फसल को तोड़ने के बाद बचे हुए पौधों से पशुओं के लिए चारा भी प्राप्त कर सकेगें. इसके अलावा इसके इसके बचे हुए पौधों को सुखाकर सूखे भूरे की तरह पशुओं को खिला सकते है. इसमें पाए जाने वाले पौषक तत्वों के कारण यह पशुओं के स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है.

किसानों को लगाना पड़ेगा केवल इतना पैसा

इसकी खेती पर किसानों को अधिक पैसा नही खर्च करना पड़ता है. एक एकड़ बेबी कॉर्न उगाने के लिए किसान भाई को लगभग 15,000 रुपये खर्च करने पड़ेगें. वहीँ अगर कमाई देखी जाय तो एक एकड़ बेबी कॉर्न से किसान भाई 1 लाख रुपये कमा सकते है. इस तरह से किसान भाई पूरे साल में चार बार इसकी खेती कर पूरे चार लाख रुपये कमा सकते है.

इसकी खेती से किसानों के सामने केवाल एक समस्या बनी रहती है. कि अभी तक इसकी बिक्री के लिए कोई व्यवस्थित सप्लाई चैन नहीं बनी है, ऐसे में किसानों को इसे बेचने में थोड़ी परेशानी झेलनी पड़ सकती है. लेकिन समय के साथ इसकी डिमांड और तेज हो रही है. ऐसे में किसानों को इससे खूब फायदा हो सकता है.

यह भी पढ़े : तीन दिवसीय किसान महोत्सव में राज्य के कोने-कोने से पहुंचे किसान, दी गई उन्नत खेती एवं पैदावार बढ़ाने व नवाचारों की जानकारी

इसकी खेती के लिए सरकार करती है सहायता 

अगर कोई किसान भाई बेबी कॉर्न की खेती बड़े स्तर पर करना चाहते है. तो किसानों को कम ब्याज दर पर सरकार द्वारा ऋण उपलब्ध कराया जाता है. जिससे किसानों को इसकी खेती में किसी प्रकार की दिक्कत न हो.

इसके अलावा सरकार बेबीकॉर्न और मक्के की खेती के लिए किसानों को बढ़ावा दे रही है.इसके लिए सरकार एक जागरूकता अभियान भी चला रही है. आप इससे जुड़ी जानकारी iimr.icar.gov.in के वेबसाइट से ले सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here