Sheep Farming in india | भेड़ पालन कर कमाए लाखों, एक लाख रुँपये से कर सकते है शुरुवात

0
434
Sheep Farming
भेड़ पालन कर कमाए लाखों

Sheep Farming Tips | भेड़ पालन कर कमाए लाखों

देश के ग्रामीण क्षेत्रों में किसान भाई अतरिक्त कमाई के लिए खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते है. पशुपालन में किसान भाई बकरी, गाय, भैंस, सूअर और भेड़ पालन करते है. जिनसे किसान भाई अच्छा मुनाफा कमाते है.

आज के इस लेख में भेड़ पालन (Sheep Farming) के बारे में आप सभी को जानकारी मिल पायेगी. क्योकि आज देश के ग्रामीण क्षेत्रो में करोड़ों किसान भाई भेड़ पालन बढ़िया मुनाफा कमाते है. भेड़ों का इस्तेमाल मांस के व्यापार के अलावा ऊन, खाद, दूध, चमड़ा जैसे कई सारे उत्पाद बनाने में करते है. इससे किसानों को अधिक मुनाफा मिलता है. इसी वजह से भेड़ पालन (Sheep Farming Tips) किसानों के बीच का लोकप्रिय है.

ज्यादा खर्च नही करना पड़ता है भेड़ों के भोजन पर 

भेड़ पालन अन्य पशुपालन की अपेक्षा ज्यादा खर्च नही करना पड़ता है. क्योकि इनके भोजन पर ज्यादा खर्च नही करना पड़ता है. यह शाकाहारी होने के कारण घास और पत्तियां खाकर पेट भर लेती है. इस तरह इनके भोजन के लिए ज्यादा मेहनत नही करनी पड़ती है. भारत में ज्यादातर मालपुरा, जैसलमेरी, मंडिया, मारवाड़ी, बीकानेरी, मैरिनो, कोरिडायल रामबुतु, छोटा नागपुरी शहबाबाद आदि भेड़ की प्रजातियों का पालन किया जाता है.

यह भी पढ़े : इस राज्य की सरकार देसी गाय खरीदने के लिए देगी 25 हजार रुएये का अनुदान

भेड़ पालन पर सरकार देती है अनुदान

सरकार द्वारा किसानों की आय दो गुनी करने के लिए तरह-तरह की योजनायें चलायी जा रही है. इसी के तहत केंद्र सरकार द्वारा नेशनल लाइवस्टॉक मिशन द्वारा भेड़ पालन के लिए 50 प्रतिशत तक का अनुदान दिया जाता है.

केंद्र सरकार के अलावा राज्य सरकारे भी अपने-अपने स्तर पर किसानों को भेड़ पालन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए अनुदान दिया जाता है. पशुपालन विशेषज्ञों के अनुसार एक किसान सिर्फ एक लाख रुपे खर्च कर भेड़ पालन का व्यवसाय शुरू कर सकता है. बाजार में एक भेड़ की कीमत तीन से आठ हजार रूपये तक होती है.

यह भी पढ़े : ज्वार का चारा | Sorghum feed | पशुओं के लिए पर्याप्त पौष्टिक चारा

किसानों को भेड़ पालन से है अधिक फायदा 

भेड़ पालन ग्रामीण क्षेत्रों के किसानों के आय का प्रमुख साधन है. क्योकि इनसे ऊन, मांस और दूध अधिक मात्रा में प्राप्त होता है. इसके साथ ही भेड़ से प्राप्त गोबर काफी अच्छा उर्वरक होता है. जिससे किसान के खेतों की उर्वरकता बढ़ जाती है. भेड़ के शरीर पर बहुत नरम और लम्बें रोये होते है, जिनसे अधिक मात्रा में ऊन प्राप्त होती है. इनसे प्राप्त ऊन से कई तरह के वस्त्र बनाए जाते है. ऐसे में किसान भाई एक भेड़ पालन से कई तरह के व्यावसाय कर सकते है. जिनसे वह अच्छा लाभ कमा सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here