इस राज्य की सरकार देगी 1 लाख 84 हजार किसानों को फसल नुकसान का मुआवजा

0
333
फसल नुकसान का मुआवजा
फसल नुकसान का मुआवजा

किसानों को फसल नुकसान का मुआवजा

पिछले साल 2021 में अत्यधिक बारिश, बाढ़ और सूखे के कारण किसानों के खरीफ फसल को काफी नुकसान हुआ था, जिसके बाद किसानों को इस नुकसान की भरपाई के लिए राहत राशि की घोषणा की गई थी। ऐसे किसान जिनके पास फसल बीमा कवरेज था, उन्हें फसल बीमा कवरेज प्रणाली के तहत भुगतान प्रदान किया जाएगा और जिन किसानों के पास बीमा पॉलिसी नहीं है, उन्हें भी निश्चित रूप से राज्य सरकार द्वारा भुगतान की पेशकश की जाएगी।। राजस्थान में वर्ष 2021 में खरीफ फसल के दौरान 10 क्षेत्रों के 6 हजार 122 गांवों में 33 प्रतिशत या उससे भी अधिक का नुकसान हुआ था, जिसके लिए सरकार ने किसानों को बंदोबस्त प्रदान करने के लिए 175 करोड़ रुपये की राशि अधिकृत की है।

175 करोड़ रुपए का मुआवजा किसानों को मिलेगा 

राजस्थान के आपदा प्रबंधन एवं सहायता मंत्री श्री गोविंद राम मेघवाल ने मंगलवार को विधानसभा में दावा किया कि वर्ष 2021 में खरीफ फसल के दौरान 10 क्षेत्रों के 6,122 कस्बों में 33 प्रतिशत या इससे भी अधिक फसल क्षतिग्रस्त हो गयी थी. जिसके लिए राज्य सरकार ने प्रभावित किसानों में से 1 लाख 84 हजार 682 किसानों को 175 करोड़ रुपये के अनुदान भुगतान के वितरण की स्वीकृति जारी कर दी है. उन्होंने कहा कि आज 70.58 लाख किसानों को भुगतान किया जाना बाकी है, जिनका भुगतान प्रक्रियाधीन है।

यह भी पढ़े : Eucalyptus in Hindi | सफेदा की खेती कैसे करे ?, जिससे किसान भाई हो मालामाल

राज्य के इन जिलों के किसानों की फसलों को हुई थी क्षति 

विधायक श्री हमीर सिंह भायाल की मूल जांच के लिखित जवाब में श्री मेघवाल ने कहा कि वर्ष 2021 में 10 जिलों में 31 लाख 21 हजार 414 हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ फसल में 33 प्रतिशत या उससे अधिक फसल को नुकसान पहुंचा था. बाड़मेर में 11 लाख 20 हजार 323 हेक्टेयर, बीकानेर में 1 लाख 96 हजार 428, चुरू में 25 हजार 970, डूंगरपुर में 20 हजार 939, जालोर में 5 लाख 5 हजार 396, जैसलमेर में 4 लाख 91 हजार 459, जोधपुर में 4 लाख 701 हेक्टेयर पाली में 2 लाख 84 हजार 668, सिरोही में 63 हजार 171 और नागौर में भी 12 हजार 359 हेक्टेयर क्षेत्र को नुकसान पहुंचा है.

आंवटन के लिए 283.53 करोड़ रुपये बाड़मेर को दिया जायेगा

इस संबंध में सदस्य द्वारा प्रश्नकाल के दौरान की गई अतिरिक्त पूछताछ के जवाब में श्री मेघवाल ने कहा कि बाड़मेर क्षेत्र में सूखे के कारण 16 तहसीलों को फसल खराब होने के कारण अभावग्रस्त घोषित कर दिया गया है. जिले के 2768 कस्बों में 33 प्रतिशत या इससे अधिक फसल क्षतिग्रस्त हो गई। जिससे लगभग 5.40 लाख किसान प्रभावित हुए हैं, 2 लाख 81 हजार 459 किसानों को कृषि अनुदान की अदायगी के लिए 283.53 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

यह भी पढ़े : Kisan credit card scheme 2022 | किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये ? | Online apply for kisan credit card 2022

सूखा प्रभावित किसानों को मुआवजे के रूप में अतिरिक्त सहायता

राज्य के सूखा प्रभावित स्थानों के किसानों को कृषि इनपुट अनुदान के निपटान के लिए और विभिन्न अन्य उपशमन गतिविधियों जैसे पालतू शिविर, पुआल डिपो, पीने की प्रक्रिया के लिए अतिरिक्त सहायता प्रदान करने के लिए भारत सरकार को एक ज्ञापन भेजा गया है। जल परिवहन। अभी तक भारत सरकार बनाम ज्ञापन की ओर से कोई राशि प्राप्त नहीं हुई है।

श्री मेघवाल ने सूचित किया कि वर्ष 2021 के लिए भारत सरकार को भेजे गए सूखे के ज्ञापन के विरूद्ध कोई राशि प्राप्त नहीं हुई है। उन्होंने दावा किया कि राज्य आपदा मोचन कोष की प्रस्तावित राशि में से कृषि इनपुट देने की कार्यवाही की जा रही है। प्रभावित किसानों के लिए तथा पालतू शिविरों के संचालन के साथ-साथ प्रभावित स्थानों में चारा डिपो के संचालन के लिए विभाग द्वारा 10 जनवरी, 2022 को मानक जारी किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here