August me ugai jane wali sabji | किसान भाई अगस्त महीने में इन सब्जियों को उगाकर बनेगें मालामाल

0
August me ugai jane wali sabji
अगस्त महीने में सब्जियां

August me ugai jane wali sabji | अगस्त महीने में कौन सी सब्जियों को उगाये 

August me ugai jane wali sabji : देश में मानसून सीजन चल रहा है. मानसून के इस सीजन में सब्जियों की खेती काफी आसानी से की जा सकती है. क्योकि इस मौसम में बारिश होती रहती है. जो भी किसान भाई पिछले महीने जुलाई में सब्जियों की बुवाई नही कर पाए है. वह इस अगस्त के महीने में सब्जियों की बुवाई कर सकते है. इनसे वह अच्छा लाभ कमा सकते है.

अगस्त महीने में अच्छी बारिश होती है. जिसके कारण वातावरण में नमी भी बनी रहती है. ऐसे मौसम में सब्जियों की फसल अच्छी तरह उगाई जा सकती है. लेकिन अधिकतर किसान भाइयों को इस बात की जानकारी नही होती है. वह अगस्त महीने में कौन-कौन सब्जियों को लगाकर उन्हें उगा सकते है. जिन्हें आने वाले महीनों में तोड़कर उन्हें बेचकर अच्छा मुनाफा कमा सके. तो आइये हम इस लेख के जरिये आपको यह बताते है कि आप अगस्त महीने में किन-किन सब्जियों की खेती (August me ugai jane wali sabji) कर सकते है-

इन सब्जयों की खेती कर सकते है अगस्त महीने में (Vegetables To Plant In August In India)

देश में अगस्त का महीना काफी खास होता है. जिसमें उत्तर और मध्य भारत के काफी क्षेत्रों में अछि-खासी बारिश हो जाती है. वही दक्षिण भारत में बारिश न के बराबर नहोती है. क्योकि वहां से मानसून समाप्त हो चुका होता है. इसलिए किसान भाइयों को अपने यहाँ के मौसम के अनुरूप अगस्त महीने सब्जी लगा अकते है. क्योकि सब्जी के उगने में तापमान और जलवायु की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. तो आइये जानते है जलवायु के अनुसार अगस्त माह में भारत में बोई जाने वाली सब्जी फसले-

यह भी पढ़े : Poultry promotion scheme : कुक्कुट पालन प्रोत्साहन योजना से किसानों को होगा अधिक फायदा, आइये जाने कैसे मिलेगा लाभ

अगस्त महीने में भिन्डी की खेती (Okra cultivation in the month of August)

अगस्त महीने में भिन्डी उगाई जाने वाली प्रमुख सब्जी फसल है. इसके उगाने के लिए 22-35°C का तापमान सबसे उचित होता है. इसके लिए किसान भाई अपने खेती की अच्छी प्रकार जुताई करके समतल कर ले. इसके लिए खेत में पाटा जरुर लगाए. इसके अलावा इस बात का ध्यान भी रखे खेत से जल निकास की भी व्यवस्था अच्छी रखे. इसके उपरांत खेत में कम्पोस्ट या गोबर की सड़ी हुई खाद डाल देनी चाहिए.

इसके उपरांत भिड़ी के बीज को खेत में बुवाई कर दे. बीज को छिटकवा विधि या लाइन में बो सकते है. बीज की बुवाई के समय 1/2 से 1 इंच गहराई पर बीज बोने से जमाव अच्छा लेता है. इसके कुछ दिन बाद इन बीजों से पौधे तैयार हो जायेगे. भिन्डी की खेती में पानी की पर्याप्त आवश्यकता होती है. बुवाई दो महीने बाद भिन्डी तोड़ने लायक हो जाती है.

अगस्त महीने में गाजर की खेती (Carrot cultivation in the month of August)

गाजर की खेती के लिए लिय यह अगस्त का महीना सबसे उपयुक्त होता है. इसके उगाने के लिए 15-26°C का तापमान सबसे उचित होता है. इसकी मांग सर्दियों में सबसे अधिक होती है. लोग इसका उपयोग सलाद या हलवा बनाने में अधिक करते है. इसलिए आप इसकी बुवाई अगस्त के इस महीने में कर सकते है. जिससे यह सर्दियों के मौसम के शुरू होने से पहले इसकी फसल तैयार हो जाय.और आप इसकी फसल से अच्छा मुनाफा कमा सके.

किसान भाई इसे जैविक विधि अपनाकर उगाये तो अधिक लाभ मिल सकता है. इसके लिए किसान भाई खेत की 2 से 3 गहरी जुताई करके खेत को अच्छी तरह तैयार कर ले. इसके बाद पाटा लगाकार खेत को समतल बना ले. खेत तैयार करते समय किसान भाई इस बात का ध्यान रखे कि खेत में जलभराव की समस्या न हो, इसके लिए पानी निकास की व्यवस्था जरुर बनाये. आखिरी जुताई के समय किसान भाई खेत में कम्पोस्ट खाद या गोबर की सड़ी हुई खाद जरुर डाले. इसके उपरांत खेत में गाजर की रोगरोधी किस्मों के बीजों की बुवाई करे. इसके बाद समय-समय पर खेत की सिंचाई करते है. सर्दी से पहले आपकी गाजर की फसल खुदाई के लिए तैयार हो जाएगी.

अगस्त महीने में मूली की खेती (Radish cultivation in August)

मूली की सब्जी को उगाने के लिए अगस्त का महीने सबसे उत्तम माना जाता है.इसके उगाने के लिए 12-24°C का तापमान सबसे उचित होता है. इस समय बोई गयी मूली की अच्छी कीमत प्राप्त होती है. क्योकि मूलीको खाने के साथ सलाद के रूप में, के अलावा साग,अचार भी बनाया जाता है. यह स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक भी होती है. मूली की मांग बाजार में भी काफी अच्छी रहती है. इसलिए किसान भाई इसकी बुवाई कर अच्छी कीमत प्राप्त कर सकते है.

मूली की खेती लिए किसान भाई खेती को अच्छी प्रकार तैयार करके मिट्टी को एकदम भुरभुरा बना ले. इसके बाद क्यारियां बनाकर कतारे बना लेनी चाहिए. इन कतारों पर ही मूली के बीजों की बुवाई करी चाहिए. समय-समय पर इसकी फसल में हल्का पानी देना चाहिए. और खेत में हल्की नमी बनाकर रखे. बुवाई के लगभग 50 से 60 दिन बाद मूली की फसल तैयार हो जाएगी.

अगस्त महीने में शलजम की खेती (Cultivation of Turnip in August)

शलजम की खेती के लिए अगस्त का यह महीना एकदम सर्वोत्तम माना जाता है. इसके उगाने के लिए 13-30°C का तापमान सबसे उचित होता है. यह एक जड़ वाली सब्जी है. जिसकी मांग बाजार में काफी अधिक होती है. इसका उपयोग सब्जी और सलाद दोनों में किया जाता है. वही इसकी जड़े और पत्तियां दोनों को खाने में उपयोग किया जाता है. इसलिए किसान भाई इन दोनों को बाजार में बेचकर अच्छा लाभ कमा सकते है.

शलजम की खेती के लिए बलुई एवं रेतीली मिट्टी सबसे उपयुक्त होती है. किसान भाई मिट्टी सख्ती और चिकनापन दूर करने के लिए किसान भाई इसकी 3 से 4 जुताई करके मिट्टी को समतल बना ले. साथ ही आखिरी जुताई के समय कम्पोस्ट या गोबर की सड़ी खाद मिट्टी में जरुर मिलाये. लगभग दो महीने में इसकी फसल तैयार हो जाती है.

यह भी पढ़े : Pm vishwakarma yojana kya hai : ग्रामीण कामगारों को मिलेगा 1 से लेकर 2 लाख तक का ऋण,वह भी कम ब्याज दरों पर,कैसे करे आवेदन 

अगस्त महीने में फूलगोभी की खेती (Cauliflower cultivation in August)

फूलगोभी नर्सरी तैयार करने के लिए अगस्त सबसे उचित महीना होता है. किसान भाई इस महीने नर्सरी से भी अच्छा पैसा कमा सकते है. फूलगोभी के लिए 12-25°C का तापमान सबसे उपयुक्त होता है. अगस्त महीने की तैयार पौध सर्दियों के मौसम में लगाई जाती है.

किसान भाई अगस्त महीने में पौध तैयार करने लिए खेत के कोने में खेत को अच्छी प्रकार तैयार कर ले. जिसमें कम्पोस्ट या गोबर की सड़ी खाद मिलकर बेड को तैयार कर ले. बेड को खेत से करीब 3 से 4 इंच ऊँचा बनाये. फिर इस बेड पर उन्नत किस्म की फूलगोभी के किस्मों का चुनाव करके बुवाई कर दे. पौध तैयार होते ही पौध को खेत को तैयार अर्जे रोपाई कर दे.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here