गायों के लिए आईसीयू (ICU) की व्यवस्था, अब संक्रामक रोगों से नहीं मरेगें पशु, मिलेंगी यह सुविधाएं

0
20
ICU arrangement for cows
गायों के लिए आईसीयू (ICU) की व्यवस्था

गायों के लिए आईसीयू (ICU) की व्यवस्था

लम्पी वायरस के चलते देश में बहुत सारी गाय संक्रमित हुई. जिसमें से कुछ गायों की मौत भी हो गई. इसी के चलते देश की सरकारों द्वारा गायों को बचाने के लिए टीकाकरण की समुचित व्यवस्था एवं अत्याधुनिक अस्पतालों का निर्माण किया जा रहा है. इसी कड़ी में मध्यप्रदेश के हरदा में एक निजी ट्रस्ट द्वारा भी गायों के लिए एक नया व्यवस्था की जा रही है. जिसमें यहां की एक गौशाला में गायों के लिए आईसीयू वार्ड बनाया गया है.

यह भी पढ़े : खराब मौसम में भी अच्छा उत्पादन देगी गेहूं की यह किस्म, किसान भाई बनेंगे मालामाल

आईसीयू वार्ड में उपलब्ध सुविधाएं

आप सभी ने अभी तक इंसानों के लिए अस्पतालों में अत्याधुनिक सुविधाएं देखी होंगी. जिसमें गंभीर रूप से पीड़ित लोगों का इलाज करने के लिए आईसीयू वार्ड भी देखे होंगे. कुछ इसी तरह की व्यवस्था जानवरों के लिए मध्यप्रदेश के हरदा में की गई है. इस आईसीयू वार्ड में गंभीर रूप से बीमार गायों के बेहतर इलाज के लिए सारी सुविधाएं उपलब्ध मिलेंगी. आईसीयू वार्ड में गायों को गर्मी के मौसम में राहत देने के लिए एयर कंडीशन भी लगाया गया है. इसके अलावा गायों को ठंड से बचाने के लिए हीटर की भी सुविधा उपलब्ध है. साथ ही गायों के लिए जरूरी जीवन रक्षक दवाएं भी उपलब्ध रहेंगी. गोवंश के लगाए जाने वाले सभी वैक्सीनों को सुरक्षित रखने के लिए यहां एक फ्रीजर की भी व्यवस्था की गई है. इसके अलावा इस आईसीयू वार्ड में नर्मदा नदी से लाई गई रेत भी बिछाई गई है. जिससे वार्ड में रहने वाली गायों को आराम मिल सके. गाय के किसी भी भाग में इनफेक्शन को हटाने के लिए यह पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं.

आईसीयू तैयार करने में लागत

इस आईसीयू वार्ड को एक गौशाला में बनाया गया है. जिसका उद्घाटन मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल के द्वारा किया गया है. आईसीयू वार्ड को बनाने में लगभग साडे ₹7,50,000 की लागत लगी है. इसमें गंभीर रूप से बीमार गायों के इलाज की बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं.

यह भी पढ़े : गन्ने की इस नई किस्म से मिलेगी एक एकड़ में 55 टन तक की उपज, किस्म का हुआ सफल परीक्षण

इस प्रयोग से होगा संक्रामक रोगों से बचाव

हाल ही में देश में लंबी वायरस तेजी से फैला था. जिस का कहर अभी जारी है. यह संक्रामक बीमारी राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों में तेजी से फैली जिससे बहुत सारी गायों की मौत भी हो गई. जिसमें से सबसे खराब हालत राजस्थान राज्य की थी. यहां पर ढेर सारी गायों की मौत हो गई थी. जिससे इन्हें दफनाने में भी असुविधा हुई थी. लेकिन इस तरह से आईसीयू जैसा प्रयोग करके गायों को संक्रामक रोगों से बचाया जा सकता है. आने वाले वक्त में आईसीयू गायों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here