अनुदान पर उपलब्ध कराया जायेगा पशु आहार बीज एवं पौष्टिक आहार, पशुपालकों को होगा फायदा

0
pashu aahar
अनुदान पर पशु आहार बीज एवं पौष्टिक आहार

अनुदान पर पशु आहार बीज एवं पौष्टिक आहार

पशुपालक किसानों को पशुपालन से फायदा और देश में दूध का उत्पादन बढ़ सके इसके लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है. इसके लिए सरकार द्वारा समय-समय पर विभिन्न योजनायें भी चलाई जा रही है. लेकिन पाशों में दुग्ध उत्पादन बढ़ने के लिए सबसे जरुरी होता है पशुओं को मिलने वाला पौष्टिक आहार. जिसकों पशु खाकर अच्छी सेहत के साथ अच्छा दूध दे. इस कड़ी में मध्य प्रदेश स्टेट को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन द्वारा पशुपालकों को हरे चारे के लिए अनुदान पर बीज के अलावा पौष्टिक आहार भी उपलब्ध कराया जा रहा है.

वही मध्य प्रदेश के पशुपालन एवं डेयरी मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल ने बताया कि प्रदेश के 6 दुग्ध संघों द्वारा दुग्ध प्रदायकों से रोज 8 लाख 35 हजार 296 लीटर दूध संकलित किया जाता है. भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, जबलपुर और बुंदेलखण्ड दुग्ध संघ द्वारा 6 हजार 593 दुग्ध समितियों के माध्यम से 2 लाख 29 हजार 702 दुग्ध प्रदायकों से यह दूध खरीदा जाता है. इसमें से रोज 7 लाख 16 हजार 465 लीटर दूध उपभोक्ताओं को विक्रय किया जाता है.

यह भी पढ़े : Gharauni Yojana के तहत ग्रामीणों को मकान का स्वामित्व पत्र मिलेगा डिजिटल सिस्टम से

पशुओं को उपलब्ध कराया जायेगा पौष्टिक आहार 

पशु आहार के बारे में जानकारी देते हुए पशुपालन मंत्री ने बताया कि पशुओं को पौष्टिक आहार मिले और वे स्वस्थ्य रहें, इसके लिये एम.पी. स्टेट को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन द्वारा पचामा, मांगलिया, बंडोल, शिवपुरी और सागर में 13 हजार 750 मीट्रिक टन प्रतिमाह उत्पादन क्षमता के पशु आहार संयंत्र संचालित किये जा रहे हैं.

गौ-भैंस वंशीय पशुओं को उचित अनुपात में भूसा, चारा और अन्य पौष्टिक आहार खिलाने से पशुओं के शारीरिक विकास के साथ दुग्ध उत्पादन में भी वृद्धि होती है. दुग्ध संघ के संयंत्रों में निर्मित साँची ब्रॉण्ड सुदाना पशु आहार में विटामिन, प्रोटीन, फेट आदि सभी आवश्यक पौष्टिक तत्व होते हैं। दुग्ध उत्पादन में वृद्धि होने से किसानों की आय में भी वृद्धि होती है.

यह भी पढ़े : इस राज्य के किसानों को PM Kisan Yojana के तहत 6000 रुपये के बजाय अब मिलेगें 10,000 रुपये, जानिए कैसे पायेंगे लाभ

चारे के बीज पर अनुदान 

पशुओं को हरा चारा निरंतर मिले, इसके लिये दुग्ध समितियों एवं सदस्यों को निर्धारित मात्रा में मौसमवार उन्नत किस्म के चारे के बीज जैसे सूडान-चरी, अफ्रीकनटाल मक्का, बाजरा, मल्टीकट बरसीम, लूसर्न, ओट आदि दिये जाते हैं. इसमें 50 प्रतिशत राशि संघ द्वारा और 25-25 प्रतिशत दुग्ध समितियों और समिति सदस्यों द्वारा वहन की जाती है. अब तक पशुपालकों को लगभग 155 मीट्रिक टन हरा चारा बीज वितरित किया गया.
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here