आम का कलिका माइट | Mango bud mite | Mango pests

0
320
आम का कलिका माइट
आम का कलिका माइट | Mango bud mite

आम का कलिका माइट | Mango bud mite

नमस्कार किसान भाईयों आम का कलिका माइट कीट आम की फसल को बहुत अधिक हानि पहुंचता है. यह फरवरी में माह में सबसे ज्यादा पाया जाता है. जो कि आम में लगने वाली फसल को काफी नुकसान पहुंचता है. किसान भाईयों को घाटा उठाना पड़ता है. इसलिए गाँव किसान (Gaon Kisan) आज अपने इस लेख में आम का कलिका माइट कीट की पूरी जानकारी देगा. जिससे किसान भाई अपने बाग़ की फसल को इसके प्रकोप से बचा सके. तो आइये जानते है आम का कलिका माइट कीट की पूरी जानकारी-

आम का कलिका माइट कीट की पहचान 

यह कीट बहुत छोटे आकार का माइट (mite) है. यह पत्तों पर भारी संख्या में निचली सतह पर जाला बनाकर रहता है. इसकी उपस्थिति का ज्ञान आम में नए विकृत पत्तों के गुच्छों के साथ ही होता है.

कीट पाया जाया वाला क्षेत्र 

यह कीट पूरे भारत के आम के पेड़ों पर पाया जाता है. भारत के अलावा यह कीट बांग्लादेश, पकिस्तान एवं यूनाईटेड अरब रिपब्लिक में काफी क्षति पहुंचता है.

यह भी पढ़े : आम की लाल चींटी | Red ant | Mango pests

आम को क्षति  

इस माइट के अर्भक वयस्क कलिकाओं से रस चूसते है. परिणाम स्वरूप मुलायम तंतु पीले पड़ जाते है. जब यह माइट अधिक संख्या में हो जाते है, तो इनके प्रकोप से कलिकाएँ सूख जाती है. चूंकि यह माइट विकृत फूलों के गुच्छों के साथ पाया जाता है. अतः संदेह किया जाता है, कि यह आम के विकृत गुच्छा रोग का या तो स्वयं कारक है या उसके कारक को फैलाने में मदद करता है.

अन्य परपोषी पौधे 

यह कीट केवल आम के फसल को ही क्षति पहुंचता है.

कीट का जीवन चक्र 

इस कीट के जीवन चक्र के बारे में ज्यादा जानकरी उपलब्ध नही है. पंजाब में इसकी सबसे ज्यादा संख्या फरवरी में पायी जाती है. इसके बाद इसकी संख्या धीरे-धीरे कम होती जाती है. और मई के महीने में बहुत कम हो जाती है. फिर जून में इसकी संख्या बढती है. जो जुलाई में फिर अधिकातम सीमा तक पहुंच जाती है. अगस्त-सितम्बर महीने में पुनः इसकी संख्या कम हो जाती है. जो अक्टूबर से दिसम्बर तक कम रहती है. जनवरी में इसकी संख्या अचानक बढ़ जाती है. उसी समय विकृत गुच्छों की संख्या भी पेड़ पर बढ़ जाती है. जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है. कि यह विकृत गुच्छों के कारक से किसी न किसी प्रकार सम्बंधित है.

यह भी पढ़े : आम का प्ररोह पिटिका कीट | Mango shoot gall maker

कीट की रोकथाम 

यह कीट माइट डाइमिथोएट, डाइक्रोटोपास या फार्मोथिन के छिड़काव से नियंत्रित किया जा सकता है.

निष्कर्ष 

किसान भाईयों उम्मीद है गाँव किसान के इस लेख से आम का कलिका माइट कीट सम्बंधित जानकारी मिल पायी होगी. फिर भी इस लेख से सम्बंधित आपका कोई लेख हो तो कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट कर पूछ सकते है. इसके अलावा यह लेख आपको कैसा लगा कमेन्ट कर जरुर बताएं, महान कृपा होगी.

आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद, जय हिन्द.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here